Breaking News
कर्नाटकः कुमारस्वामी के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट पहुंची हिंदू महासभा, कहा-असंवैधानिक तरीके से बन रहे हैं मुख्यमंत्रीGoogle ने Doodle बनाकर महान समाज सुधारक राजा राम मोहन राय को दी श्रद्धांजलियूपीः योगी के मंत्री के बेटे ने दी धमकी,कहा- महिलाओं को गलत तरीके से छूनेवालों के हाथ काट दूंगापूर्व प्रधानमंत्री देवगौड़ा का कांग्रेस को लेकर बड़ा खुलासा, बोले- हमने दिया था उन्हें सीएम का ऑफर'निपाह वायरस' का कहर, केरल के कोझिकोड में अब तक 16 लोगों की मौतरोटोमैक घोटाला: CBI ने विक्रम कोठारी के खिलाफ दायर की चार्जशीट, रोटोमैक की होगी नीलामीकर्नाटक में अभी बाकी है 'नाटक', किसे कौन सा मंत्रालय मिलेगा, आज होगा तयकर्नाटक में अभी बाकी है 'नाटक', किसे कौन सा मंत्रालय मिलेगा, आज होगा तय
Top

जयललिता की बेटी होने की दावा करने वाली महिला की याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने किया खारिज

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Nov 27 2017 4:52PM IST
जयललिता की बेटी होने की दावा करने वाली महिला की याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने किया खारिज

तमिलनाडु की दिवंगत मुख्यमंत्री जयललिता की बेटी होने का दावा करने वाली महिला की याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया है। बेंगलुरू की रहने वाली महिला अमृता सारथी ने दावा किया है कि वह जयललिता की बेटी है। 

जस्टिस मदन बी लोकुर और दीपक गुप्ता की बेंच ने इस याचिका को खारिज करते हुए कहा कि ये मामला सीधे सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई का नहीं हैं। याचिकाकर्ता को दूसरे कानूनी विकल्पों का इस्तेमाल करना चाहिए।

कर्नाटक हाईकोर्ट में याचिका दाखिल करने की दी जाए इजाजत-

अमृता की तरफ से पेश वरिष्ठ वकील इंदिरा जयसिंह ने कहा कि अगर हमने इस मामले की याचिका मद्रास हाईकोर्ट में दाखिल की तो कानून व्यवस्था बिगड़ सकती है। इसलिए हमें कर्नाटक हाईकोर्ट में इस याचिका को दाखिल करने की इजाजत दी जाए। 

यह भी पढ़ेंः जो लश्कर का कमाडंर बनेगा, वह ज्यादा दिनों तक नहीं बचेगा: अरुण जेटली

सुप्रीम कोर्ट ने टिप्पणी करने से किया मना-

सुप्रीम कोर्ट ने इस मांग पर टिप्पणी करने से मना कर दिया। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि याचिकाकर्ता अपने पास उपलब्ध कानूनी विकल्पों को इस्तेमाल करने के लिए स्वतंत्र हैं। 

क्या है अमृता का दावा- 

इंदिरा जयसिंह ने सुप्रीम कोर्ट में कहा कि कि अमृता जयलिलता की बेटी है। चूंकि जयललिलता की शादी नहीं हुई थी इसलिए अमृता को जन्म के बाद जयललिता की बहन शैलजा को सौंप दिया गया था। 

यह भी पढ़ेंः पाक के नागरिक ने कहा- अल्लाह के बाद आप हैं हमारी आखिरी उम्मीद, सुषमा स्वराज ने दिया जवाब

डीएनए टेस्ट कराने की मांग- 

अमृता की वकील इंदिरा जयसिंह ने जयललिता के पार्थिव शरीर को निकालने की मांग की है। जिससे अमृता का डीएनए टेस्ट कराया जा सके और ये साबित हो सके की अमृता जयललिता की बेटी है। 

ADS

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
supreme court refused to women pil claiming to jayas daughter

-Tags:#PIL#Jaylalita Daughter#Supreme Court#Tamilnadu

ADS

ADS

मुख्य खबरें

ADS

ADS

ADS

ADS

Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo