Hari Bhoomi Logo
सोमवार, सितम्बर 25, 2017  
Breaking News
Top

SC: मौलिक अधिकार है 'निजता का अधिकार'

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Aug 24 2017 12:17PM IST
SC: मौलिक अधिकार है 'निजता का अधिकार'

निजता का अधिकार, मौलिक अधिकार है सुप्रीम कोर्ट की 9 बेंचों की जजों ने सर्वसम्मति से आज यह फैसला सुनाया। इससे पहले इस मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने सभी पक्षों की दलीलों को सुनने के बाद 3 अगस्त को अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था। कोर्ट ने गुरुवार को अपना फैसला सुनाते हुए कहा कि  निजता का अधिकार मौलिक अधिकार है और यह संविधान के आर्टिकल 21 (जीने के अधिकार) के तहत आता है।

करीब एक पखवाड़े तक चली मैराथन सुनवाई में केंद्र सरकार व गुजरात, कर्नाटक, पश्चिम बंगाल, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा, महाराष्ट्र, केरल आदि राज्यों के अलावा याचिकाकर्ता की ओर से वरिष्ठ वकील श्याम दीवान, गोपाल सुब्रह्मण्यम आदि ने अपने पक्ष रखे।

केंद्र सरकार का कहना था कि निजता का अधिकार तो है लेकिन यह मौलिक अधिकार नहीं है। आधार का मामला इस केस से अप्रत्यक्ष तौर पर जुड़ा हुआ था। इस फैसले से आधार की किस्मत नहीं तय होगी। आधार पर अलग से सुनवाई होगी। बेंच को सिर्फ संविधान के तहत निजता का अधिकार की प्रकृति और दर्जा तय करना था।  

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
supreme court deliver his judgment on right to privacy today

-Tags:#Supreme Court#Right To Privacy#Fundamental Rights
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo