Hari Bhoomi Logo
रविवार, सितम्बर 24, 2017  
Breaking News
बीएचयू कैंपस के अंदर पहुंची पुलिस, छात्रों का हंगामा हुआ तेजबीएचयू: छात्र प्रदर्शन के दौरान कांग्रेस नेता पी.एल पुनिया, राज बब्बर और अजय राय को पुलिस ने रोकादिल्ली तक पहुंची बीएचयू की आग, यूथ कांग्रेस ने जमकर किया प्रदर्शनदिल्ली तक पहुंची बीएचयू की आग, यूथ कांग्रेस ने जमकर किया प्रदर्शनप्रद्युम्न मर्डर केस: आरोपी ड्राइवर अशोक को 14 दिनों की न्यायिक हिरासतलखनऊ: सोमवार सुबह 11 बजे मुलायम सिंह यादव करेंगे प्रेस कॉन्फ्रेंसबीएचयू: छात्राओं ने किया छेड़खानी का विरोध, पुलिस ने बरसाई लाठियांजम्मू-कश्मीर के बारामूला स्थित उड़ी सेक्टर में रात से ही सेना और आतंकियों के बीच मुठभेड़ जारी है
Top

कहानी अंडरवर्ल्ड डॉन अरुण गवली की, कैसे एक दूधवाला बना अंडरवर्ल्ड का बेताज बादशाह

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Sep 9 2017 1:46AM IST
कहानी अंडरवर्ल्ड डॉन अरुण गवली की, कैसे एक दूधवाला बना अंडरवर्ल्ड का बेताज बादशाह

शिवसेना नेता की हत्या के आरोप में नागपुर की जेल में बंद 62 वर्षीय अंडरवर्ल्ड डॉन अरुण गवली का जन्म 17 जुलाई 1955 को अहमदनगर जिले में हुआ था। उनके बचपन का नाम अरुण गुलाबराव अहीर था। 

अरुण गवली को उनके समर्थक डैडी के नाम से पुकारते हैं। अरुण गवली करीब तीन दशक से अंडरवर्ल्ड में है। उस पर मर्डर, हफ्तावसूली से जुड़े कई दर्जन मामले दर्ज हैं। 

जानिए एक दूधवाले से अंडरवर्ल्ड डॉन अरुण गवली बनने की कहानी...

- 1990 में जब मुंबई में गैंगवार जोरों पर था, तब इन गैंगस्‍टरों के बीच अरुण गवली ही था, जो मुंबई छोड़कर नहीं गया। 

- अरुण अपने पिता के साथ एक मिल में काम करता था लेकिन कुछ समय बाद गवली वापस घर आ गया। 

- वापस आने के बाद गवली की दोस्ती अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम और छोटा राजन से हुई। 

- कुछ दिनों के बाद गवली के पिता और भाई एक गैंगवार का शिकार हो गए, जिसके बाद गवली अपना गैंग बनाना शुरू कर दिया। 

- इसके साथ ही दाऊद और गवली की दुश्मनी का दौर शुरू हो गया। 

- अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद के मुंबई छोड़ दुबई भागने के बाद गवली का अंडरवर्ल्ड पर एकछत्र राज हो गया। 

- इसके कुछ ही दिनों बाद छोटा राजन भी देश छोड़कर भाग खड़ा हुआ और मलेशिया में अपना बिजनेस शुरू कर लिया। 

- दूध बेचकर परिवार चलाने वाला गवली इसी चाल से बना जुर्म की दुनिया का बादशाह। वह अपने चाहने वालों के बीच 'डैडी' के नाम से जाना जाता है।

- हमेशा सफेद टोपी और कुर्ता पहनने वाला अरुण गवली सेंट्रल मुम्बई की दगली चाल में रहा करता था। वहां उसकी सुरक्षा के कड़े इंतजाम थे। आलाम यह था कि पुलिस भी वहां उसकी इजाजत के बिना नहीं जाती थी। वहां गवली की सुरक्षा में हर समय हथियार बंद लोग तैनात रहते थे। 

- गवली के गैंग में काम करने वालों की संख्या 800 के लगभग था। उसके सभी लोगों को हथियार चलाने में महारत हासिल थी। 

राजनीति में रखा पहला कदम 

- अंडरवर्ल्ड में धाक जमाने के बाद और कानून से बचने के लिए गवली ने राजनीति में जाने का फैसला किया। इसके साधने के लिए उसने साल 2004 में अखिल भारतीय सेना के नाम से एक पार्टी बनाई। महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में उसने अपने कई उम्मीदवार उतारे। और खुद भी उसने चिंचपोकली सीट से चुनाव लड़ा और जीत गया। 

- उस समय अंडरवर्ल्ड में गवली का इतना धाक था कि शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने यहां तक कहा कि अगर पाकिस्तान के पास दाऊद इब्राहिम है तो हमारे पास अरुण गवली है। 

- गौरतलब है कि अंडरवर्ल्ड में दाऊद इब्राहिम, छोटा राजन, हाजी मस्तान, वरदराजन, करीम लाला, अबू सलेम, छोटा शकील और मन्या सुर्वे जैसे डॉन के नामों का जिक्र होगा तब-तब अंडरवर्ल्ड डॉन अरुण गवली का नाम लिया जाएगा। गवली फिलहाल शिवसेना नेता की हत्या के जुर्म में जेल में सजा काट रहा है। 

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
story of the underworld don arun gawli

-Tags:#Underworld Don#Arun Gawli#Travel
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo