रायपुर

सामाजिक विज्ञान की कॉपियां जांच रहे हैं इंग्लिश के टीचर

By haribhoomi.com | Mar 21, 2017 |
english
रायपुर. छत्तीसगढ़ बोर्ड की दसवीं कक्षा के मूल्यांकन कार्य में बड़ी लापरवाही सामने आई है। इंग्लिश के शिक्षकों को सामाजिक विज्ञान की कॉपियां जांचने थमा दी गई हैं। 
 
मामला राजधानी के दानी गर्ल्स स्कूल में बनाए गए मूल्यांकन केंद्र का है। यहां इंग्लिश के लेक्चरर्स से जबरन सामाजिक विज्ञान की कॉपियां जंचवाई जा रही हैं।
 
नियमानुसार संबंधित विषय में पोस्ट ग्रेजुएट ही कॉपियां जांच सकता है। विषय विशेषज्ञ शिक्षकों से कॉपियां न जंचवाने से नतीजे तो प्रभावित होंगे ही, छात्रों के भविष्य पर भी प्रश्न चिन्ह लग गया है। शिक्षकों द्वारा असमर्थता जताए जाने के बाद भी उनसे मूल्यांकन कार्य लिया जा रहा है।
 

शिक्षकों ने कहा, जानें दो हमें
नाम न छापने की शर्त पर एक शिक्षक ने बताया कि केंद्र में इंग्लिश की कॉपियां पूरी जंच चुकी हैं। इसके बाद इंग्लिश लेक्चरर्स ने जाने की अनुमति मांगी। इस पर उन्हें सामाजिक विज्ञान की कॉपियां जांचने का जिम्मा सौंप दिया गया। 
 
जब शिक्षकों ने कहा कि वे अंग्रेजी के शिक्षक हैं, सामाजिक विज्ञान का विषय ज्ञान नहीं है, इसलिए कॉपियां नहीं जांच सकते, तो उन्हें कहा गया कि रिलीव नहीं किया जा सकता, इसलिए कॉपियां जांचें। 
 
अगर अंग्रेजी के व्याख्याता हैं, फिर भी 10वीं तक तो सामाजिक विज्ञान पढ़ा ही होग आपने। अंग्रेजी के 15 व्याख्याताओं से यहां सामाजिक विज्ञान की कॉपियां जंचाई जा रही है।
 
पोस्ट ग्रेजुएट ही जांच सकते हैं कॉपियां
मंडल के नियमानुसार किसी भी विषय की उत्तरपुस्तिकाएं जांचने के लिए मूल्यांकनकर्ताओं का संबंधित विषय में पोस्ट ग्रेजुएट होना और कम से कम तीन वर्ष का अध्यापन अनुभव होना अनिवार्य है। 
 
ऐसे में संभव ही नहीं है कि शिक्षकों से उनके विषय के अतिरिक्त अन्य विषयों की कॉपियां जांचने का कार्य लिया जाए। विषय का संपूर्ण ज्ञान न होने की स्थिति में यदि शिक्षक कॉपियां जांचते हैं, तो छात्रों के नतीजे भी इससे प्रभावित होंगे।
 
इंग्लिश मीडियम की कॉपियां हैं, इसलिए कहा
हरिभूमि द्वारा मामला संज्ञान में लाए जाने के बाद जब अधिकारियों ने संबंधित केंद्राध्यक्ष से बात की, तो उनका कहना था कि सामाजिक विज्ञान की इंग्लिश माध्यम की कॉपियां भी आ गई थीं। 
 
हिंदी माध्यम के शिक्षकों ने अंग्रेजी माध्यम की कॉपियां चेक करने में असमर्थता जताई, तो हमने इंग्लिश के ऐसे शिक्षकों को कॉपियां चेक करने कहा, जो अपने स्कूलों में सामाजिक विज्ञान भी पढ़ाते हों। दानी स्कूल केंद्र के प्राचार्य वीके खंडेलवाल से इस बाबत हमने बात करनी चाही, लेकिन संपर्क नहीं हो पाया।
 
संपर्क करें शिक्षक
यदि इस तरह की कोई बात है या शिक्षक कॉपी जांचने में सक्षम नहीं हैं, तो वे हमसे संपर्क कर सकते हैं। क्या मामला है, दिखवाते हैं हम।
- एन. बंजारा, जिला शिक्षा अधिकारी
 
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर- 
  • Post a comment
  • Name *
  • Email address *

  • Comments *
  • Security Code *
  • BBPWI
  •       
    कमेंट्स कैसे लिखें !
    जिन पाठकों को हिन्दी में टाइप करना आता है, वे युनीकोड मंगल फोंट एक्टिव कर हिन्दी में सीधे टाइप कर सकते हैं। जिन्हें हिन्दी में टाइप करना नहीं आता वे Roman Hindi यानी कीबोर्ड के अंग्रेजी अक्षरों की मदद से भी हिन्दी में टाइप कर सकते हैं। उदाहरण के लिए यदि आप लिखना चाहें- “भारत डिफेंस कवच एक उपयोगी पोर्टल है’, तो अंग्रेजी कीबोर्ड से टाइप करें, bharat defence kavach ek upyogi portal hai. हर शब्द के बाद स्पेस बार दबाएंगे तो अंग्रेजी का अक्षर हिन्दी में टाइप होता चला जाएगा। यदि आप अंग्रेजी में अपने विचार टाइप करना चाहें तो वह विकल्प भी है।
    Haribhoomi
    Haribhoomi on Social Media
    ऐसा झटका, कहीं अपना मानसिक संतुलन न खो दें गोविंदा

    ऐसा झटका, कहीं अपना मानसिक संतुलन न खो ...

    फिल्म का बजट 22 करोड़ था लेकिन फिल्म ने दो दिनों में 50 लाख का कलेक्शन किया है।

    सिंगर अभिजीत ने कहा- तीनों खान हैं देशद्रोही, फिल्मों में बजावा रहे हैं मौला-मौला

    सिंगर अभिजीत ने कहा- तीनों खान हैं ...

    अभिजीत ने आगे कहा कि शिरीष जान बूझकर सिर्फ हिन्दुओं को ही टार्गेट करते हैं।

    अनुष्का शर्मा की फिल्म 'फिल्लौरी' सिनेमाघरों में हुई सुस्त, जानिए कितने कमाए

    अनुष्का शर्मा की फिल्म 'फिल्लौरी' ...

    फिल्लौरी एक रोमांटिक कॉमेडी फिल्म है जिसमें अनुष्का एक फ्रेंडली भूत बनी हैं।