Breaking News
Top

नेताजी की मौत से जुड़ी ये फाइल 100 साल के लिए हुई बंद

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Nov 30 2017 7:09PM IST
नेताजी की मौत से जुड़ी ये फाइल 100 साल के लिए हुई बंद

नेताजी सुभाष चंद्र बोस की मौत से जुड़ी एक महत्वपूर्ण फाइल अगले 100 वर्षों के लिए बंद हो गई है, जिससे नेताजी सुभाष चंद्र बोस की मौत के रहस्यों से पर्दा उठ सकता था। दरअसल, पैरिस के एक जाने-माने इतिहासकार जे.बी.पी. मोर ने फ्रांस के सैन्य अधिकारियों की एक गुप्त फाइल देखने की अनुमति मांगी थी,

लेकिन फ्रांस के राष्ट्रीय अभिलेखाकार प्रशासन ने इससे इनकार कर दिया। इस फाइल के बारे में कहा जा रहा था कि उसमें नेताजी की मौत से जुड़े कई राज दफन हैं। मोर ने कहा कि जवाब मिला है कि फाइल 100 वर्षों के लिए बंद है।

इसे भी पढ़ें: एक मिनट में ऐसे बुक करें तत्काल टिकट

मोर के मुताबिक बोस की मौत साइगॉन में हुई

इतिहासकार मोर ने कहा,वर्षों की रिसर्च के बाद, मैं इस बात की पुष्टि कर सकता हूं कि बोस की मौत साइगॉन में हुई। फ्रेंच सिक्रेट सर्विस के रिकॉर्ड्स के आधार पर कहा जा सकता है कि शायद उनकी मौत वियतनाम के बोट कैटिनेट जेल में हुई होगी।' मोर पैरिस के एक कॉलेज में पढ़ाते हैं।

उन्होंने कहा, फ्रेंच अधिकारियों के पत्र से मैं चकित रह गया कि उन्होंने साइगॉन में आएनए और बोस से जुड़ी जानकारी वाली अहम फाइल देखने की अनुमति देने से इनकार कर दिया। इससे मेरी धारणा और भी मजबूत हुई है कि सितंबर 1945 में साइगॉन में ही बोस ने अंतिम सांस ली, यही वजह है कि इस फाइल को गुप्त रखा जा रहा है।'

इसे भी पढ़ें: यूपीईआरसी ने यूपी को दिया बिजली का झटका, जानिए नई दरें

फाइल में बोस के आखिरी दिनों की महत्वपूर्ण जानकारी

मोर ने कहा कि अब बोस के परिवार से जुड़े लोगों या भारत सरकार को फ्रांस सरकार से इस एक फाइल को खोलने की मांग करनी चाहिए, जिसे अब लंबे समय के लिए जनता से दूर करने की कोशिश की गई है।

उन्होंने कहा,इस फाइल में बोस के आखिरी दिनों के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी मिल सकती है। गौरतलब है कि 11 दिसंबर 1947 को फ्रेंच सिक्रेट सर्विस की रिपोर्ट के आधार पर मोर ने फ्रांस के राष्ट्रीय अभिलेखागार से इस फाइल को पढ़ने की इजाजत मांगी थी। मोर का मानना है कि बोस की मौत हवाई दुर्घटना में नहीं हुई थी।

इसे भी पढ़ें: जीडीपी ग्रोथ 5.7 से बढ़कर 6.3% हुई, मोदी सरकार को मिली बड़ी राहत

बोस की मौत ताइपे हवाई दुर्घटना में नहीं हुई

मोर ने कहा, 'यह बिल्कुल स्पष्ट लगता है कि बोस की मौत ताइपे में हवाई दुर्घटना में नहीं हुई जबकि ज्यादातर लोग ऐसा ही मानते हैं। अगर उनकी मौत वहां हुई तो तोक्यो में रखी गई उनकी अस्थियों का डीएनए टेस्ट होना चाहिए जिससे यह पुष्टि की जा सके कि वास्तव में नेताजी सुभाष चंद्र बोस की मौत हवाई दुर्घटना में हुई थी।

अब क्योंकि टेस्ट कभी हुआ नहीं, ऐसे में इस बात की पूरी संभावना है कि अस्थियां बोस की नहीं हैं।' नेताजी सुभाष चंद्र बोस की मौत कैसे और कब हुई, यह सवाल पिछले 70 सालों से रहस्य बना हुआ था लेकिन भारत सरकार ने एक आरटीआई के जवाब में मई में जानकारी दी थी। इसके अनुसार 18 अगस्त 1945 को नेताजी की मौत ताइवान में हुए प्लेन क्रैश में हुई थी।

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
secret file that could unravel mystery of netaji subhas chandra bose death closed for 100 years

-Tags:#Netaji Subhas Chandra Bose#Netaji Subhas Chandra Bose death#Netaji Subhas Chandra Bose death mystery#Subhas Chandra Bose files
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo