Breaking News
Top

न्यायाधीश रिश्वत मामले में सुप्रीम कोर्ट का एसआईटी जांच से इंकार, वकील को सुनाई खरी-खरी

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Nov 14 2017 9:50PM IST
न्यायाधीश रिश्वत मामले में सुप्रीम कोर्ट का एसआईटी जांच से इंकार, वकील को सुनाई खरी-खरी

जजों के नाम पर रिश्वत लेने के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने एसआईटी जांच से इंकार कर दिया है। इसके साथ ही इस मामले में याचिकाकर्ता के खिलाफ भी कोई कार्रवाई नहीं होगी।

यह भी पढ़ें: केजरीवाल सरकार ने पुनर्विचार याचिका में पड़ोसी राज्यों को ऑड-ईवन में लपेटा

 

एसआईटी जांच की मांग करने वाली याचिका पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि इस तरह की याचिका से अनावश्क रूप से जजों की ईमानदारी पर शक पैदा होगा। इस तरह वरिष्ठ वकील कामिनी जायसवाल की याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया। 

यह भी पढ़ें: 'पद्मावती' की फंडिंग पर पहलाज निहलानी ने दिया सुब्रमण्यम स्वामी को चैलेंज

इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि सीबीआई की एफआईआर में किसी जज के नाम का जिक्र नहीं है और ना ही किसी जज के खिलाफ इस तरह की शिकायत दर्ज करना संभव है। 

यह भी पढ़ें: योग गुरु रामदेव को मिला महाराष्ट्र सरकार से बड़ा प्रोजेक्ट, उठे सवाल

जस्टिस आर के अग्रवाल, जस्टिस अरुण मिश्रा और जस्टिस एएम खंनविलकर की खंडपीठ ने कहा कि इस तरह के मामले उठाना उचित नहीं है। खंडपीठ ने कहा कि इस तरह की याचिका से न्यायिक प्रणाली की साख को नुकसान पहुंचा है। साथ ही इससे गैरजरूरी शक भी पैदा हुए हैं। 

यह भी पढ़ें: दीपिका का नेताओं को चैलेंज, 'पद्मावती' की रिलीज को कोई नहीं रोक सकता

कामिनी जायसवाल ने वरिष्ठ वकील शांति भूषण और प्रशांत भूषण की ओर से सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी। याचिका में आरोप लगाया गया था कि  मेडिकल कॉलेज के केसों को सेटल करने के लिए जजों के रिश्वत दी गई थी। इसमें उड़ीसा हाईकोर्ट के रिटायर जज का नाम भी है। 

यह भी पढ़ें: यशवंत सिन्हा बोले- गुजरात की जनता पर 'बोझ' हैं अरुण जेटली, जनता मांगे इस्तीफा

 
(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
sc refuses sit probe in judges bribery case no action against petitioner

-Tags:#Judges Bribery Case#medical colleges#Prashant Bhushan#Supreme Court
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo