Top

आरबीआई सर्वे ने भी रोजगार को लेकर बजाई खतरे की घंटी, निराशा में हैं उपभोक्ता

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Oct 9 2017 2:13PM IST
आरबीआई सर्वे ने भी रोजगार को लेकर बजाई खतरे की घंटी, निराशा में हैं उपभोक्ता
हाल ही में आरबीआई यानि भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा करवाया गया सर्वे भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए अच्छे संकेत नहीं दे रहा है। आरबीआई के सर्वे के मुताबिक देश की अर्थव्यवस्था को लेकर लोगों में निराशाजनक माहौल है और इसका असर रोजगार पर भी देखने को मिल रहा है। 
 
इसी महीने 4 अक्टूबर को जारी आरबीआई के कंज्यूमर कॉन्फिडेंस सर्वे में कई चौंकाने वाले नकारात्मक पहलुओं को भी उजागर किया गया है। सर्वे में बताया गया है कि उपभोक्ताओं में खरीदारी को लेकर उत्साह नहीं है। उत्पादन के क्षेत्र में भी कारोबारियों में निराशा छाई हुई है। 
 
 
आरबीआई सर्वे के नतीजे विकास दर नीचे जाने के साथ ही महंगाई में बढ़ने के भी संकेत दे रहे है। खास बात यह है कि सर्वे के परिणाम हाल ही में जारी आर्थिक नीति समीक्षा रिपोर्ट से भी मिलते-जुलते हैं। इस रिपोर्ट में वित्त वर्ष 2017-18 में अनुमानित विकास दर 7.3 से घटाकर 6.7 फीसदी कर दी गई है। 
 
आरबीआई सर्वे ने देश में रोजगार के बुरे हालात का भी जिक्र किया है। उपभोक्ताओं के गिरते आत्मविश्वास ने रोजगार के परिदृ्श्य को और खराब कर दिया है। इससे कर्मचारियों की आय भी प्रभावित हो रही है। 
 
सर्वे में लोगों ने रोजगार को लेकर ही सबसे ज्यादा चिंता जाहिर की है। इससे देश में माहौल और भी निराशाजनक बनता दिख रहा है। पिछले दो साल में रोजगार को लेकर हालात और खराब हुए हैं। 
 
बता दें कि कंज्यूमर कॉन्फिडेंस सर्वे देश के 6 प्रमुख शहरों नई दिल्ली, हैदराबाद, कोलकाता, मुंबई, बेंगलुरु और चेन्नई में कराया गया है। इसमें करीब 5000 लोगों ने अपनी आम राय जाहिर की है। इसमें आर्थिक हालात, महंगाई, रोजगार, आय-व्यय से जुड़े सवाल पूछे गए। 
 
(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
rbi survey also warns falling employment prospects consumer in despair

-Tags:#RBI#RBI survey#Employment#Jobs#Narendra Modi#Economy
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo