Breaking News
उत्तराखंड: चमोली में बादल फटने की वजह से भूस्खलन, अलर्ट जारीNo Confidence Motion: गिरिराज सिंह ने राहुल गांधी पर ली चुटकी, बोले- भकूंप के मजे के लिए तैयारDaati Maharaj Case: कोर्ट ने CBI जांच वाली याचिका पर जारी किया नोटिस, मांगा जवाबमानसून सत्र 2018ः No Confidence Motion पर संसद में बहस जारीNo Confidence Motion: कांग्रेस को मिले समय पर खड़गे ने उठाए सवाल, कहा- 130 करोड़ लोगों के लिए 38 मिनट पर्याप्त नहींNo Confidence Motion: शिवसेना ने किया वहिष्कार, कहा- सदन की कार्यवाही में नहीं लेंगे हिस्साअविश्वास प्रस्ताव को प्रश्नकाल की तरह समय देने पर मल्लिकार्जुन खड़गे ने उठाए सवालमोदी सरकार की पहली 'परीक्षा' के लिए राहुल गांधी के 'भूकंप' लाने वाले सवाल लीक
Top

पीएम मोदी के नोटबंदी पर जेटली की सफाई

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Aug 31 2017 1:21PM IST
पीएम मोदी के नोटबंदी पर जेटली की सफाई

8 नवंबर, 2016 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा नोटबंदी की घोषणा के नौ महीने बाद वित्त मंत्री अरुण जेटली ने आज कहा कि नोटबंदी का असर अनुमान के अनुरूप ही रहा है और इससे मध्यम और दीर्घकाल में अर्थव्यवस्था को फायदा पहुंचेगा। 

रिजर्व बैंक के यह कहने के एक दिन बाद कि बंद किए गए 500, 1000 रुपये के करीब करीब सभी नोट बैंकिंग तंत्र में लौट आए हैं। जेटली ने कहा कि पैसा बैंकों में जमा हो गया है इसका मतलब यह नहीं है कि यह पूरा धन वैध है।

उन्होंने कहा, 'यह कोई नहीं कह रहा है कि नोटबंदी के बाद कालाधन पूरी तरह से समाप्त हो गया है। नोटबंदी के बाद जीएसटी लागू होने से प्रत्यक्ष कर राजस्व को अच्छा बढ़ावा मिलेगा, क्योंकि इसके बाद कई नए लोग कर के दायरे में आए हैं।'

उन्होंने कहा कि नोटबंदी के बाद काफी नकदी बैंकों में जमा की गई। यह सरकार के लिए चिंता की बात नहीं है क्योंकि यह अर्थव्यवस्था के लिये अच्छा है कि अधिक से अधिक धन औपचारिक तंत्र में आया है।

इसे भी पढ़ें: अरुण जेटली: नोटबंदी के बाद अलगाववादियों और नक्सलियों के आए बुरे दिन

गौरतलब है कि रिजर्व बैंक ने कल कहा कि 500 और 1,000 रुपये के पुराने 15.44 लाख करोड़ नोटों में से करीब 99 प्रतिशत धन बैंकिंग तंत्र में आ चुका है।

माल एवं सेवाकर (जीएसटी) के मामले में जेटली ने कहा इससे पड़ने वाले मुद्रास्फीतिक प्रभाव से बचा गया है और आने वाले समय में विभिन्न वस्तुओं की कर दरों में बेहतर तालमेल की गुंजाइश है।

वित्त मंत्री ने कहा कि सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों का एकीकरण का मामला सरकार के एजेंडे में है। देश को कम लेकिन मजबूत बैंकों की जरूरत है।

इसे भी पढ़ें: नोटबंदी के बाद 500 रुपए के नए नोट के आने में इसलिए हुई थी देरी, जानिए वजह

बैंकों के फंसे कर्ज का समाधान करने के मुद्दे पर जेटली ने कहा कि इसमें समय लगेगा। इसके लिये कोई सर्जिकल समाधान नहीं हो सकता है।

उन्होंने कहा कि यदि निजी क्षेत्र अपने कर्ज का भुगतान नहीं कर पाता है तो किसी अन्य को इसके अधिग्रहण का अवसर मिलना चाहिए।

रिजर्व बैंक पहले ही कर्ज लेकर उसे लौटाने में अक्षम बड़े बड़े डिफाल्टर की सूची जारी कर चुका है और बैंकों को उनके खिलाफ दिवाला कारवाई शुरू करने की सिफारिश कर चुका है।

ADS

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
rbi demonetisation india report arun jaitley vs modi speech

-Tags:#Demonetization Report#Narendra Modi#Arun Jaitley#Demonetisation India#Demonetisation Meaning

ADS

ADS

मुख्य खबरें

ADS

ADS

ADS

ADS

Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo