Hari Bhoomi Logo
बुधवार, सितम्बर 20, 2017  
Breaking News
Top

स्वच्छता रैंकिंग में प्राइवेट संस्थानों ने मारी बाजी, प्रकाश जावड़ेकर को हुआ अफसोस

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Sep 16 2017 6:34PM IST
स्वच्छता रैंकिंग में प्राइवेट संस्थानों ने मारी बाजी,  प्रकाश जावड़ेकर को हुआ अफसोस
स्वच्छता अभियान में सरकारी यूनिवर्सिटी और कॉलेज फिसड्डी साबित हो रहे हैं। यह बात स्वच्छता अभियान को लेकर देशभर के उच्च शिक्षण संस्थानों में कराई गई प्रतियोगिता में निकल कर आई है। इस मामले में निजी शिक्षण संस्थानों ने सरकारी संस्थानों को पीछे छोड़ दिया है। 
 
खास बात यह है कि स्वच्छता रैंकिंग को जो सूची सामने आई है, उसमें पहले 50 संस्थानों में कोई भी सरकारी यूनिवर्सिटी, कॉलेज और अन्य शिक्षण संस्थान नहीं आया है। इसमें पूरी तरह प्राइवेट संस्थान ही छाए हुए हैं। 
 
 
 
केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने सरकारी संस्थानों के बुरे हालात पर अफसोस जाहिर किया है। उन्होंने तंज कसा है कि इस तरह से तो सरकारी संस्थानों के लिए ही अलग श्रेणी बनानी होगी। 
 
जिस प्राइवेट संस्थान ने पहला स्थान हासिल किया है, उसका नाम ओपी जिंदल ग्लोबल विश्वविद्यालय हैं। हरियाणा के सोनीपत में बना यह संस्थान अपनी साफ-सफाई के लिए छा गया है। 
 
दूसरे पायदान पर जयपुर की मनिपाल यूनिवर्सिटी रही। तीसरे नंबर पर सालोन की चितकारा यूनिवर्सिटी आई, जबकि चौथे स्थान पर बेलगाम का केएलई उच्च शिक्षण व शोध संस्थान रहा। 
 
स्वच्छता अभियान प्रतियोगिता में देश भर के 3500 संस्थानों ने भाग लिया था। हैरानी की बात यह है कि इनमें सिर्फ 174 संस्थान ही स्वच्छता के मानकों पर खरे उतरे। 
 
(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
prakash javadekar angry that govt education institutes not in top 50 of swachhta list

-Tags:#Swacchta Rankings#University#Colleges#Technical institutions#OP Jindal University#Sonepat#
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo