Hari Bhoomi Logo
रविवार, सितम्बर 24, 2017  
Breaking News
बीएचयू कैंपस के अंदर पहुंची पुलिस, छात्रों का हंगामा हुआ तेजबीएचयू: छात्र प्रदर्शन के दौरान कांग्रेस नेता पी.एल पुनिया, राज बब्बर और अजय राय को पुलिस ने रोकादिल्ली तक पहुंची बीएचयू की आग, यूथ कांग्रेस ने जमकर किया प्रदर्शनदिल्ली तक पहुंची बीएचयू की आग, यूथ कांग्रेस ने जमकर किया प्रदर्शनप्रद्युम्न मर्डर केस: आरोपी ड्राइवर अशोक को 14 दिनों की न्यायिक हिरासतलखनऊ: सोमवार सुबह 11 बजे मुलायम सिंह यादव करेंगे प्रेस कॉन्फ्रेंसबीएचयू: छात्राओं ने किया छेड़खानी का विरोध, पुलिस ने बरसाई लाठियांजम्मू-कश्मीर के बारामूला स्थित उड़ी सेक्टर में रात से ही सेना और आतंकियों के बीच मुठभेड़ जारी है
Top

एनएसजी और सीआईएसएफ को मिल सकती है संदिग्ध ड्रोन मार गिराने की अनुमति

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Sep 11 2017 1:23AM IST
एनएसजी और सीआईएसएफ को मिल सकती है संदिग्ध ड्रोन मार गिराने की अनुमति

नेशनल सिक्युरिटी गार्ड (एनएसजी) और इंडस्ट्रियल सिक्युरिटी फोर्स सीआईएसएफ को अनजान या संदिग्ध ड्रोन या ग्लाइडर को मार गिराने की अनुमति मिल सकती है।

भारत सरकार इस तरह की नई पॉलिसी पर काम कर रही है, जिसे फाइनल किया जाना है।

गृह मंत्रालय अधिकारी के मुताबिक, आतंकी हमला करने में सक्षम ड्रोन, ग्लाइडर्स जैसे अनमैन्ड एरियल व्हीकल (यूएवी) से निपटने के लिए और पायलट लेस और लो फ्लाइंग ऑब्जेक्ट को संचालित करने के लिए जल्द ही एक नीति लाई जाएगी।

कब उठा ये मसला

अधिकारी के मुताबिक, ये मसला गृह सचिव की इंडियन एअर फोर्स, सिविल एविएशन मिनिस्ट्री, सीआईएसएफ और दूसरी ऑर्गनाइजेशंस के साथ हुई पिछली कई मीटिंग्स में उठ चुका है। ड्रोन नीति का मसौदा अंतिम चरण में है।

 
नीति में यूएवी और लो फ्लाइंग ऑब्जेक्ट्स पर नियंत्रण करने पर फोकस रहेगा। ये इसी महीने पब्लिक डोमेन में रखी जा सकती है, ताकि सुरक्षा से जुड़े दूसरे लोग इस बारे में अपने कमेंट्स दे सकें।
 

सीआईएसएफ-एनएसजी का क्या रोल होगा

अधिकारी के मुताबिक, संभव है कि एनएसजी और सीआईएसएफ को ऐसे अधिकार दिए जाएं, जिनमें अगर कोई यूएवी संदिग्ध और खतरा लगता है तो उसे मार गिराया जा सके।

सीआईएसएफ-एनएसजी को इलेक्ट्रोमैग्नेटिक सिस्टम से लैस किया जा सकता है। इसमें राडार, रेडियो फ्रीक्वेंसी जैमर और डिटेक्टर की सुविधाएं हैं।
 
नीति में ऐसे रक्षात्मक कदम उठाए जाएंगे, जिससे ये निश्चित हो सके कि आतंकी ग्रुप यूएवी का इस्तेमाल गलत तरीके से ना कर सकें।
 
इस नीति पर काम तब शुरू हुआ,जब कुछ एयरपोर्ट्स और बॉर्डर पर ऐसे यूएवी ने ट्रैफिक को डिस्टर्ब किया और सुरक्षा के लिए खतरा बने।
 
 
एक अन्य अधिकारी ने कहा, ये जरूरी हो गया है कि एयरपोर्ट्स जैसे संवेदनशील इलाकों में यूएवी का गलत तरीके से इस्तेमाल ना किया जा सके।
 
नीति में ऐसे प्रावधान होंगे, जिनके जरिए संदिग्ध यूएवी की पहचान की जा सके।
 
अधिकारी के मुताबिक, पॉलिसी में सुरक्षा के आलावा यूएवी के लिए लाइसेंस, इंटरनेशनल बॉर्डर पर उनके इस्तेमाल, देश के भीतर उनके इस्तेमाल की हिफाजत और डिजास्टर रिलीफ वर्क में इस्तेमाल करना भी है।
 
मौजूद वक्त में यूएवी को रेगुलेट करने के लिए कोई पॉलिसी नहीं है।
 
ऐसे किसी शख्स को सजा देने का कोई कानून अभी नहीं है, जो ड्रोन के जरिए शरारत करे। इसीलिए नई नीति लाई जा रही है।
 
एक सुरक्षा अधिकारी ने कहा, एक बार कानून लागू होने के बाद इसमें बताया जाएगा कि सजा क्या होगा, जुर्माना क्या होगा और किसे ड्रोन उड़ाने का लाइसेंस दिया जाएगा। 
(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo