Breaking News
Top

रोहिंग्या को 'भारतीय' बना रहे दलाल, इस तरह नेटवर्क कर रहा तेजी से काम

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Dec 6 2017 11:26AM IST
रोहिंग्या को 'भारतीय' बना रहे दलाल, इस तरह नेटवर्क कर रहा तेजी से काम

म्यांमार और बांग्लादेश से रोहिंग्याओं को भारत में घुसपैठ कराने के लिए एक नेटवर्क सक्रिय है। कोलकाता और गुवाहाटी के दलाल रोहिंग्याओं को भारत में घुसपैठ कराने में मदद कर रहे हैं।

इतना ही नहीं दलाल उन्हें भारत में रहने को वैधता दिलाने के लिए फर्जी दस्तावेज भी मुहैया करा रहे हैं। इन लोगों के पास भारत के फर्जी पहचान पत्र भी हैं। 

यह भी पढ़ें- ग्रेटर नोएडा: मां-बेटी की बैट से पीट-पीटकर दर्दनाक हत्या, बेटा लापता

खुफिया एजेंसियों ने किया खुलासा

ये खुलासा भारत की खुफिया एजेंसियों की एक रिपोर्ट के जरिए हुआ। इतना ही नहीं भारत में पनाह लिए रोहिंग्या स्थानीय मुस्लिम संगठनों से चाहते हां कि वे भी उनका साथ दें, जिससे उन पर कोई सवाल खड़ा न हो और साथ ही उन्हें भारत से बाहर न निकाला जाए। 

गृहमंत्री राजनाथ सिंह गुरुवार को जब भारत-बांग्लादेश सीमा के मुद्दे पर पश्चिम बंगाल समेत पूर्वी राज्यों के मुख्यमंत्रियों से मिलेंगे तो वो रोहिंग्याओं को घुसपैठ कराने वाले नेटवर्क का भी मुद्दा वहां उठाएंगे। 

एजेंट ऐसे करते हैं मदद

खुफिया एजेंसियों के मुताबिक, ये दलाल बांग्लादेश से घुसपैठ कराकर रोहिंग्याओं को झुग्गियों और किराए पर बसाने में मदद कर रहे हैं। जिसके बाद इन लोगों को धीरे-धीरे देश के दूसरे हिस्सों में भेज दिया जा रहा है।  

यह भी पढ़ें- शर्मनाक! ससुर करता था रेप, पति दूसरों के साथ सोने के लिए करता था मजबूर

गृह मंत्रालय के एक अधिकारी के मुताबिक, भारत से बांग्लादेश की 4 हजार किलोमीटर लंबी सीमा लगती है। जिसमें से 1900 किलोमीटर सीमा बंगाल से लगती है। यहीं पर 2 ऐसे बड़े क्रॉसिंग प्वाइंट्स हैं, जहां से एजेंट घुसपैठ के काम को अंजाम दिलाते हैं। 

इंटेलिजेंस एजेंसियों के अनुमान के अनुसार, पूरे भारत में करीब 40 हजार रोहिंग्या मुसलमान अवैध रूप से भारत में रह रहे हैं।

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
kolkata and guwahati agents make rohingya indians through fake id

-Tags:#Rohingya#Rohingya Muslim#Kolkata#Bangladesh#Myanmar#Guwahati
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo