Top

जानिए कैसे 'ZERO FIR' का इस्तेमाल कहीं भी कर सकती हैं महिलाएं

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Nov 22 2017 1:02PM IST
जानिए कैसे 'ZERO FIR' का इस्तेमाल कहीं भी कर सकती हैं महिलाएं

हमारे समाज में लगातार महिलाओं के साथ अपराध की घटनाएं बढ़ती ही जा रही है। हर रोज महिलाओं से जुड़ी अपराध की खबर सुनाई देती है लेकिन कई बार महिलाएं अपने अधिकारों की जानकारी के आभाव शिकायत दर्ज नहीं करा पाती हैं।

आम जन-मानस के पास एक ऐसा अधिकार है, जिसका उपयोग कर वह अपने साथ हुए किसी भी तरह के अपराध की रिपोर्ट किसी भी पुलिस स्टेशन में दर्ज करा सकते हैं। इसे 'जीरो FIR' कहते हैं।

यह भी पढ़ें- प्रद्युम्न मर्डर केस: जानिए किसके खून-पसीने की कमाई से होगी आरोपी अशोक की बेल

किसी भी थाने में दर्ज करा सकते हैं रिपोर्ट

इसके तहत शिकायतकर्ता किसी भी थाने में जाकर अपनी शिकायत दर्ज करा सकता है। जीरो एफआईआर महिलाओं के लिए बेहद मददगार साबित हुई है, जिससे वह बिना डरे अपने साथ हुई घटना की रिपोर्ट दर्ज करा सकती हैं। 

सुप्रीम कोर्ट का आदेश

सुप्रीम कोर्ट के निर्देशानुसार, कोई भी शिकायतकर्ता/महिला अपने साथ हुए अपराध के खिलाफ किसी भी थाने में रिपोर्ट करा सकती है और इसके संबंधित थाना मना नहीं कर सकता है। जीरो एफआईआर दर्ज करने के बाद पुलिस मामले की जांच किए बिना मामले को संबंधित थाने में नहीं ट्रांसफर कर सकती।

जीरो एफआईआर इसलिए भी महत्वपूर्ण है क्योंकि इससे मामले की जांच जल्दी आगे बढ़ेगी और सबूत मिटाने का भी खतर कम होगा।

यह भी पढ़ें- दुष्कर्म पीड़ितों के लिए दिल्ली हाई कोर्ट ने किया ये बड़ा ऐलान

ऐसे दर्ज होती है जीरो FIR

  • FIR की तरह ही जीरो एफआईआर में भी शिकायतकर्ता का बयान दर्ज होता है।
  • पूरी घटना को पुलिस के पास लिखित रूप में दर्ज करवाया जाता है।
  • इसमें शिकायत दर्ज कराने के बाद पेपर या रजिस्टर पर साइन करना जरूरी होता है।
  • जीरो एफआईआर के बाद पीड़िता को अपने पास रिपोर्ट की एक कॉपी रखने का अधिकार है।

गौरतलब है कि 2012 में निर्भया केस के बाद आपराधिक कानून अधिनियम 2013 में 'जीरो FIR' का प्रावधान लाया गया।इसमें प्रावधान है कि अगर थाना एफआईआर न तो शिकायतकर्ता अपने इलाके के मजिस्ट्रेट इससे संबंधित शिकायत कर सकता है।

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
know your rights zero fir women can be used anywhere

-Tags:#Supreme Court#Law#Crime News#Molestation#Rights#Zero FIR#FIR
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo