Breaking News
Top

जानें आखिर क्या है 'पनामा पेपर लीक' जिसकी वजह से फंसे नवाज शरीफ

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Jul 28 2017 2:13PM IST
जानें आखिर क्या है 'पनामा पेपर लीक' जिसकी वजह से फंसे नवाज शरीफ

 पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को आज पनामा पेपर लीक मामले में दोषी करार दिया गया है। ऐसे में आपके मन में ये सवाल उठना लाजमी है कि क्या होता है पनामा पेपर लीक। पनामा पेपर लीक ने न सिर्फ पाकिस्तान बल्कि पूरे देश में तहलका मचाया है। सिर्फ पाक ही नहीं कई देशों की सरकारों को इसने गिराने की स्थिती में ला दिया है।

आइए जानते है क्या है पनामा पेपर लीक..
 
क्या है पनामा पेपर लीक
 
पनामा पेपर ऐसे कागजात हैं जो बताते हैं कि कैसे पैसे वाले अमीर लोग ऐसी जगहों पर निवेश करते हैं जहां टैक्स का कोई चक्कर न हो। पनामा पेपर लीक से टैक्स चोरी करने वालों का खुलासा होता है। पेपर्स में बताया गया है कि नवाज की उत्तराधिकारी मरियम नवाज और बच्चों ने विदेश में लाखों डॉलर की प्रॉपर्टी बनाई है। बता दें कि मुकदमा 1990 के दशक में शरीफ द्वारा लंदन में प्रॉपर्टी खरीदने का है। शरीफ उस वक्‍त दो बार प्रधानमंत्री रहे थे।
 
2016 में पनामा पेपर लीक का मामला सामने आया था जिसमें कई देशों के राष्ट्राध्यक्षों, दुनियाभर की राजनीतिक-फिल्मी हस्तियों, खिलाड़ियों और अपराधियों के वित्तीय लेन-देन का राज खोलने वाले पनामा पेपर्स ने हंगामा खड़ा कर दिया था। पनामा पेपर्स के नाम से लीक हुए इन दस्तावेजों की खोज इंटरनैशनल कन्सॉर्टियम ऑफ इन्वैस्टिगेटिव जर्नलिस्ट्स (आई.सी.आई.जे.) नाम के एन.जी.ओ. ने की थी। पत्रकारों के इस समूह ने करीब 1 करोड़ 10 लाख दस्तावेजों का खुलासा क्रमवार किया था। 
 
इसमें कई खिलाड़ियों, 140 राजनेताओं, अरबपतियों की छिपी संपत्ति का भी खुलासा हुआ था। आईसीआईजे ने लगभग 40 सालों के दस्तावेजों से ये खुलासा किया था यानी 1977 से 2015 तक। इस लीक में 500 भारतीयों का नाम था।पनामा स्थित लॉ फर्म मोसैक फॉन्सेका का सर्वर हैक होने के बाद जानकारी लीक हुई थी।

क्या हैं पनामा पेपर
 
आईसीआईजे ने कहा कि कई बड़ी हस्तियां किस तरह इन हस्तियों द्वारा देश के कोष को टैक्स बचाकर नुकसान पहुंचाती हैं इसका खुलासा पनामा पेपर लीक में होता है।
 
 
आईसीआईजे ने 2016 में पेश की एक रिपोर्ट में कहा था कि टैक्स सेविंग फर्म्स जो सेवाएं उपलब्ध कराती हैं, वे बेशक पूरी तरह कानूनी हैं। लेकिन ये दस्तावेज दिखाते हैं कि बैंकों, लॉ फर्म्स और ऐसी ही अन्य एजेंसियों ने सभी कानूनी प्रक्रियाओं का पालन नहीं किया। रिपोर्ट में आगे बताया कई मामलों में पाया गया है कि इन मध्यस्थों ने अपने क्लाइंट्स के संदिग्ध लेनदेनों को या तो छिपाया या ऑफिशल रेकॉर्ड्स के छेड़छाड़ कर उन्हें सामने नहीं आने दिया।

क्या है मोसेक फोंसेका
पनामा की यह लॉ फर्म आपके पैसे का मैनेजमैंट करने का काम करती है। यदि आपके पास बहुत-सा पैसा है तो उसे गोपनीय रूप से सुरक्षित करने में मदद करती है। यह आपके नाम से फर्जी कंपनी खोलती है और कागजों का हिसाब रखती है। इस कंपनी द्वारा दुनिया भर में किए जा रहे कारोबार पर ही पनामा देश की अर्थव्यवस्था भी निर्भर करती है।यह कंपनी एक ब्रोकर की तरह काम करती है और टैक्स हैवन देशों में दूसरी कंपनियों को पैसा निवेश करने का ठेका देती है।
 
 
यह कंपनी टैक्स हैवन कहे जाने वाले देशों स्विट्जरलैंड, साइप्रस और ब्रिटिश वर्जिन आईलैंड, जर्सी आदि में काम कर रही है। पैसा सुरक्षित रखने के मामले में सबसे सेफ स्विट्जरलैंड और हांगकांग को माना जाता है और तीसरे नंबर पर पनामा आता है।
 
 
 
 
 
(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
know the facts about panama paper leak

-Tags:#Nawaz Sharif#Panama Paper Leak
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo