Hari Bhoomi Logo
बुधवार, सितम्बर 20, 2017  
Breaking News
Top

वित्त राज्यमंत्री ने राज्यसभा ने दी रिपोर्ट, कहा- 11 लाख से ज्यादा पैन कार्ड को किए गए बंद

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Aug 2 2017 7:21PM IST
वित्त राज्यमंत्री ने राज्यसभा ने दी रिपोर्ट, कहा- 11 लाख से ज्यादा पैन कार्ड को किए गए बंद

देशभर में करीब 11.44 लाख से अधिक पैन कार्ड या तो बंद कर दिए गए हैं या फिर निष्क्रिय कर दिए गए हैं। ऐसा अधिकांश उन मामलों में किया गया है जहां पर किसी के पास एक से अधिक पैन कार्ड था। यह जानकारी वित्त राज्यमंत्री संतोष कुमार गंगवार ने दी है।

इसे भी पढ़ें: डोकलाम: चीन ने जारी किया बयान, बिना शर्त सेना हटाए भारत

संतोष गंगवार ने राज्यसभा में लिखित जवाब में बताया, 27 जुलाई तक 11,44,211 ऐसे पैन कार्ड्स की पहचान की गई है जिनमें किसी एक ही व्यक्ति को एक से अधिक पैन जारी कर दिए गए हैं, अब उन्हें या तो बंद कर दिया गया या निष्क्रिय कर दिया गया है। उन्होंने यह भी कहा, 'पैन आवंटन का नियम है प्रति व्यक्ति एक पैन।'

साथ ही सरकार ने पैन और आधार को लिंक करने की आखिरी तारीख 31 अगस्त तय कर दी है। इस तारीख तक लिंक न कराने पर करदाताओं की आईटीआर प्रोसेस नहीं होगी। इसके अलावा रेवेन्यू सेक्रेटरी ने इस बात के भी संकेत दिए हैं कि पैन भी कैंसिल किया जा सकता है। देशभर में कुल 25 करोड़ पैनकार्ड होल्डर है।

पैन के बावजूद 6.83 लाख कंपनियों ने नहीं भरा आईटीआर

6.83 लाख से अधिक कंपनियों के पास स्थाई खाता नंबर (पैन) है, लेकिन उन्होंने 2016-17 के आकलन वर्ष के लिए आयकर रिटर्न दाखिल नहीं कराया। यह जानकारी वित्त राज्य मंत्री संतोष कुमार गंगवार ने संसद को दी थी। 

इसे भी पढ़ें: RBI ने ब्याज दरों में की कटौती, 6 फीसदी हुआ रेपो रेट

आयकर विभाग के डेटाबेस के मुताबिक दिल्ली में इस तरह की कंपनियों की संख्या सबसे ज्यादा रही है। राजधानी में ऐसी कंपनियों की संख्या करीब 1.44 लाख रही है, इसके बाद मुंबई में 94,155 कंपनियां ऐसी रही हैं जिन्होंने पैन होने के बावजूद आकलन वर्ष 2016-17 के लिए आईटीआर फाइल नहीं किया।

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
junior finance minister santosh gangwar said over 11 44 lakh pan cards deactivated

-Tags:#Santosh Gangwar#Income Tax Returns#PAN Card
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo