Breaking News
Top

भारत मजबूत करेगा नौसेना, सबसे बड़ी डील पर काम शुरू

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Jul 24 2017 12:11PM IST
भारत मजबूत करेगा नौसेना, सबसे बड़ी डील पर काम शुरू

आखिरकार भारत ने 10 वर्ष के विलंब के बाद 'मदर ऑफ ऑल अंडरवॉटर डिफेंस डील्स' पर काम चालू कर दिया है। इस प्रोजेक्ट के लिए करीब 70,000 करोड़ की लागत आएगी। 

एक भारतीय शिपयार्ड के साथ सहभागिता में छह स्टेल्थ पनडुब्बियों के निर्माण के लिए फ्रांस, जर्मनी, रूस, स्वीडन, स्पेन और जापान जैसे देशों की कंपनियां इस प्रोजेक्ट के लिए मैदान में उतरने जा रही हैं।

इसे भी पढ़ें: जानिए देश का पहला सैटेलाइट आर्यभट्ट बनाने वाले वैज्ञानिक यू.आर राव की जिंदगी की 10 खास बातें

राजनीति और नौकरशाही की उदासीनता की वजह से प्रॉजेक्ट-75 (इंडिया) नाम की यह पनडुब्बी परियोजना अभी तक फाइलों में ही कैद थी। सरकार ने इसे नवंबर, 2007 में मंजूरी दी थी, लेकिन तब से यह प्रॉजेक्ट फाइलों और कमिटियों के पचड़े में फंस गया था। 

रक्षा मंत्रालय ने मई 2017 में एक सुनिश्चित 'रणनीतिक साझेदारी' की नीति के तहत यह पहला मेगा पनडुब्बी परियोजना शुरू होगा। अधिकारियों ने जानकारी दी कि इसके लिए सर्वप्रथम फ्रांस, जर्मनी, रूस, स्पेन, स्वीडन और जापान की कंपनियों को 15 सितंबर तक रिक्वेस्ट फॉर इन्फर्मेशन का स्पष्टीकरण देना होगा। 

इसे भी पढ़ें: आज प्रणब मुखर्जी के कार्यकाल का आखिरी दिन, कल कोविंद लेंगे शपथ

लेकिन इससे भी पहले इंडियन नेवी NSQRs (नेवल स्टाफ क्वॉलिटेटिव रिक्वायरमेंट्स) की जानकारी देगा। इस सिलसिले में रक्षा मंत्रालय के एक अधिकारी ने जानाकारी दी कि इन सब में 2 साल लग सकते हैं और कॉन्ट्रैक्ट होने के बाद नई पनडुब्बी बनाने में 7 से 8 साल का समय लगने की सम्भावना है लेकिन हम पूरा प्रयास करेंगे कि ये जल्दी से जल्दी हो जाए।

उन्होंने बताया कि पनडुब्बी निर्माण के समय हम जोर ट्रांसफर ऑफ टेक्नॉलजी और स्वदेशी निर्माण पर ध्यान देंगे। उन्होंने कहा कि इस पनडुब्बियां का निर्माण स्वदेशी स्टील से होगा और इनका रखरखाव भी आसान होगा ताकि ये ज्यादा चल सकें।

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
india starts mother of all underwater defence deals

-Tags:#India News#Indian Navy
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo