Hari Bhoomi Logo
गुरुवार, सितम्बर 21, 2017  
Breaking News
Top

भारत की कूटनीति ने दिखाया रंग, बड़े देशों ने किया PoK में निवेश से किनारा

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Jul 21 2017 11:04AM IST
भारत की कूटनीति ने दिखाया रंग, बड़े देशों ने किया PoK में निवेश से किनारा

भारत के कूटनीतिक गेम प्लान ने दुनिया भर के देशों को पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) में निवेश करने के फैसले पर पुनर्विचार और समीक्षा करने को बाध्य कर दिया है।

दक्षिण कोरिया केडायलिम इंडस्ट्रियल कंपनी लिमिटेड, जो मुजफ्फराबाद में झेलम पर 500 मेगावाट के चकोती हाटीयन जलविद्युत परियोजना का विकास करने के लिए एक कंसोर्टियम का नेतृत्व कर रही है, इस उद्यम में अपने निवेश पर पुनर्विचार कर रहा है।

इसे भी पढ़ें: जघन्य हत्याकांड: खुलेआम आदमी को मार कर शव पर तलवार मारते रहे बदमाश

एशियन डेवलपमेंट बैंक, इंटरनेशनल फाइनेंस कॉरपोरेशन और एक्ज़िम बैंक ऑफ कोरिया जैसे फाइनेंसरों ने विवादित क्षेत्र में एक परियोजना को वापस करने में असमर्थता व्यक्त की। कश्मीर के सूचना मंत्री मुश्ताक अहमद मिन्हास ने इस बात की जानकारी दी है।

इसके अलावा, कोहला जलविद्युत परियोजना जैसे अन्य कोरियाई-वित्तपोषित उपक्रम भी स्थगित हो सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: बॉर्डर पर भारत-चीन तनाव का कारण हिंदू राष्ट्रवाद: चीन

सूत्रों ने इंडिया टुडे टीवी को जानकारी दी कि पाकिस्तान बहुत ही आक्रामक ढंग से से अंतरराष्ट्रीय वित्तीय संस्थानों और चीन, दक्षिण कोरिया जैसे देशों पर पीओके में निवेश करने के दबाव बना रहा है। दोनों अविभाजित जम्मू और कश्मीर के हिस्से हैं, और भारत द्वारा अपने क्षेत्र के रूप में दावा करते हैं।

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
india seoul hydropower pok

-Tags:#India News#Pakistan News
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo