Breaking News
Top

आज ही के दिन हुई थी सर्जिकल स्ट्राईक, पाकिस्तान के छूट गए थे पसीने

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Sep 29 2017 4:25PM IST
आज ही के दिन हुई थी सर्जिकल स्ट्राईक, पाकिस्तान के छूट गए थे पसीने

बीते साल आज ही दिन भारतीय सैनिकों ने पीओके में अतंकी शिविरों को फायर झोकर तहसनसह कर दिया था।  अत्याधुनिक हथियारों से लैस भारतीय सेना के कमांडों ने 28 सितंबर की रात को हेलीकॉप्टर से गुलाम कश्मीर में दाखिल होकर पाकिस्तान के आतंकी कैंपों में सर्जिकल स्ट्राइक की थी।

18 सितंबर 2016 को उड़ी में सेना मुख्यालय पर आतंकी हमला होने के बाद देश में जबरदस्त रोष देखा गया था। जवाब में बीते साल 28-29 सितंबर की देर की रात को भारतीय जाबांज सैनिकों ने पाक अधिकृत जम्मू-कश्मीर में आतंकवादीयों के कैंपों पर सर्जिकल स्ट्राइक कर, पाकिस्तान को करारा जवाब दिया। इस कारर्वाई को एक साल पूरा हो चुका है। 

यह कार्रवाई गुलाम कश्मीर के चार क्षेत्रों भिंबर सेक्टर, तत्तापानी सेक्टर, लिपी सेक्टर व कैल सेक्टर में एक साथ हुई थी। चार घंटे चली, इस कार्रवाई में इन सेक्टरों में चल रहे, सात आतंकी शिविर तहसनसह कर, करीब 40 आतंकियों को मार गिराया गया।

मिशन को अंजाम देकर सभी कमांडों सुरक्षित भारतीय क्षेत्र में लौट आए। अभियान में शामिल कमांडों की हेलमेट पर लगे, विशेष कैमरों व ड्रोन की मदद से पूरे ऑपरेशन को कैद भी किया गया।

क्यों करनी पड़ी, सर्जिकल स्ट्राईक

आतंकवाद के मसले पर भारतीय सेना जम्मू-कश्मीर में बीते एक साल साल से लगातार फ्रंट फुट पर डटी हुई है। सर्जिकल स्ट्राइक के जरिए भारतीय सेना ने आतंकियों और पाकिस्तान से उड़ी अटैक का बदला लिया था।

जिसमें 17 भारतीय सैनिक शहीद हो गए थे। 5 घंटे की सर्जिकल स्ट्राइक के जरिए, भारत ने यह संकेत देने की कोशिश की थी, कि यदि सीमापार पाकिस्तान से आतंकवादियों के आने का सिलसिला जारी रहा, तो भारत भी अपने तरीके से कार्रवाई करने में सक्षम है। 

पाक की नापाक करतूतें

भारत पाकिस्तान को वैश्विक स्तर पर बार-बार आंतकियों की घुसपैट के मसले पर बेनकाब करता रहा हैं। लेकिन पाकिस्तान अपनी नापाक करतूतों से बाज नहीं आता हैं, जिस वजह से भारत को ये कदम उठाना पड़ा था। क्योंकि पाकिस्तान की सरकारी पोस्टो पर भी आंतकी बैठे हुए हैं। पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई आंतकियों को पनाह देती हैं। 

राष्ट्रीय सुरक्षा की बात करें, तो सर्जिकल स्ट्राइक के बाद हालात में कितना सुधार हुआ, इस पर बहस की जा सकती है। लेकिन, इतना तो तय है, कि सर्जिकल स्ट्राइक ने दुनिया को यह जरूर बताया, कि भारत अपने हितों की रक्षा के लिए अपने स्तर पर भी कड़ा फैसला कर सकता है। 

ऐसे हुई थी सर्जिकल स्ट्राइक

भारतीय सेना के द्वारा पीओके में की गयी, सर्जिकल स्ट्राइक में पहली बार कार्टोसेट सैटेलाइट द्वारा ली गयी, तस्वीरों का प्रयोग किया गया था। इसरो ने कार्टोसेट के जरिए एलओसी के पार हुए, सर्जिकल स्ट्राइक के लिए सैन्य बलों को बेहतरीन क्वालिटी की तस्वीरे प्रदान की थी।

जानकार मानते हैं, कि भारत अपनी रक्षा के लिए जमीन के साथ-साथ आसमान से भी नजर रख रहा है। सूत्रों का कहना है, कार्टोसेट सैन्य बलों को एरिया ऑप इंट्रेस्ट आधारित तस्वीरें भी प्रदान कर रहा है। 

सशस्त्र बलों की मांग के अनुसार तस्वीरों को प्रदान किया जाता है। भारतीय सेना की घातक प्लाटून ने 28 और 29 सितंबर की रात को पीओके में आतंकियों पर अटैक किया था।

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
india one year of surgicalstrike know how things changes articleshow

-Tags:#Surgicalstrike#Hard News#Latest News#
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo