Hari Bhoomi Logo
रविवार, सितम्बर 24, 2017  
Breaking News
Top

भारत ने की युद्ध की तैयारी, देश में निर्मित होंगे अहम सुरक्षा उपकरण

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Jul 23 2017 4:59PM IST
भारत ने की युद्ध की तैयारी, देश में निर्मित होंगे अहम सुरक्षा उपकरण

चीन से सामना करने के लिए अब भारत में ही सुरक्षा उपकरणों का निर्माण किया जाएगा। सेना ने यह फैसला आयात में हो रही देरी के कारण लिया। सेना ने कहा कि अब लड़ाकू टैंकों और अन्य सैन्य प्रणालियों के अहम उपकरणों और कलपुर्जों को विकसित किया जाएगा।

 
सेना ने बताया कि भारत की 41 आयुध फैक्ट्रियों के संगठन द ऑर्डिनेंस फैक्ट्री बोर्ड ने उपकरणों और कलपुर्जों के आयात को 60 फीसदी के बजाय 30 फीसदी करने का फैसला लिया है। संगठन ने उपकरणों और कलपुर्जों को स्वदेशी तरीके से निर्मित करने का फैसला लिया है।
 
सेना ने कहा कि आयुध महानिदेशक और बोर्ड हर साल 10 हजार करोड़ रुपए के कलपुर्जे खरीदता है। सैन्य बलों की शिकायत है कि रूस से कलपुर्जों और उपकरणों का आयात बहुत देरी से होता है। रूस से हुई देरी के कारण मॉस्को से खरीदे गये सैन्य उपकरणों की देखरेख पर भी असर पड़ता है। 

 
विस्तृत समीक्षा के दौरान 13 लाख सैन्य शक्ति वाली सेना के अभियानों की तैयारियों में खामियां मिलने के बाद सरकार ने इनके स्वदेशी निर्माण का फैसला लिया है ताकि युद्ध संबंधी तैयारियों को बेहतर बनाया जा सके।
 
 
कंट्रोलर एंड ऑडिटर जनरल (कैग) ने शुक्रवार को संसद रक्षा विभाग के समक्ष चीन और पाकिस्तान से चल रहे भारत के टकराव को लेकर अपनी रिपोर्ट पेश की।कैग ने कहा कि है कि टकराव की स्थिति में सेना के पास 10 दिन का गोला-बारूद भी नहीं है। गौरतलब है कि 1999 में आर्मी नै तय किया था कि कम से कम 20 दिन की अवधि का गोला-बारूद रिजर्व होना चाहिए। 
(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
india made plans for war army equipments will be self made

-Tags:#India-China War#India-China 1962 War
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo