Breaking News
महाराष्ट्रः पेट्रोल डीजल की बढ़ती कीमतों पर CM देवेंद्र फडणवीस ने दिया बड़ा संकेत, ये है GST लागू होने पर नुकसानप्रतिनिधिमंडल के साथ दो दिवसीय दौरे पर भारत पहुंचे नीदरलैंड के PM मार्क रुट, पीएम मोदी के साथ करेंगे बैठकPM मोदी ने क्रिकेटर विराट कोहली का फिटनेस चैलेंज किया स्वीकार, लिखा- चैलेंज स्वीकार जल्द शेयर करुंगा वीडियोपेट्रोल-डीजल के दामों में 11वें दिन भी जारी बढ़ोत्तरी, पेट्रोल 30 पैसा और डीजल 19 पैसा हुआ मंहगा10वीं दिन भी पाक की तरफ से सीजफायर का उल्लंघन, नौशेरा सेक्टर में 1 घायललगातार हार से कांग्रेस में फंड का टोटा, AICC ने प्रदेश कमेटी के ऑफिस का खर्चा-पानी बंद कियाझारखंड को मिलेगी 27000 करोड़ की सौगात, 25 मई को पीएम मोदी करेंगे शिलान्यासRSS का राहुल गांधी पर तीखा हमला, कहा- खोई जमीन वापस पाने के लिए समाज को बांटने की कोशिश
Top

चीन और पाक से निपटने के लिए सेना को चाहिए 26.84 लाख करोड़

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Jul 16 2017 9:10AM IST
चीन और पाक से निपटने के लिए सेना को चाहिए 26.84 लाख करोड़

भारतीय सेना दो तरफ से अपने दुश्मन पड़ोसी देशों से लोहा ले रही है। एक तरफ जहां लाइन ऑफ कंट्रोल (एलओसी) पर पाकिस्तान और तो दूसरी तरफ पूर्वोत्तर में चीन की सेना से भारत अपने हितों की रक्षा करने में लगा हुआ है। ऐसे में भारतीय सेना को आधुनिकीकरण की जरूरत है। इस जरूरत को पूरा करने के लिए सभी सशस्त्र बलों ने सरकार से अगले पांच सालों में 26.84 लाख करोड़ रुपए आवंटित करने को कहा है। 

10 और 11 जुलाई को हुई यूनिफाइड कमांडर्स कॉन्फ्रेंस में अगले पांच साल का (2017-2022) 13वां संयुक्त रक्षा प्लान पेश किया गया। इस कॉन्फ्रेंस में सेना को मजबूत और आधुनिकीकरण करने के लिए 26,83,924 करोड़ रुपए आवंटित करने के लिए कहा है। 

इसे भी पढ़ेंः कश्मीर: अब रोज चलेगा आतंक के खिलाफ सेना का ऑपरेशन, नार्थ कश्मीर में 125 आतंकी

सुरक्षाबलों ने रक्षा बजट में भारी बढ़ोत्तरी की मांग ऐसे समय में रखी है जब सिक्किम में चीन के साथ टकराव चल रहा है और एलओसी पर पाकिस्तान के साथ लगभग हर दिन गोलीबारी हो रही है।

कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए केंद्रीय रक्षा मंत्री अरुण जेटली ने भरोसा दिया कि आधुनिकीकरण पर निवेश को प्राथमिकता दी जाएगी। मौजूदा समय में भारत का रक्षा बजट 2.74 लाख करोड़ रुपये है, जोकि जीडीपी का 1.56 फीसदी है। यह 1962 में चीन के खिलाफ युद्ध के बाद से न्यूनतम आंकड़ा है। सेना चाहती है कि रक्षा बजट को बढ़ाकर जीडीपी के 2 फीसदी तक किया जाए। 

इसे भी पढ़ेंः सरकार ने शुरू की युद्ध की तैयारी, बढ़ाई सेना की खरीद पावर

13वें रक्षा प्लान के मुताबिक 12,88,654 करोड़ रुपये पूंजी लागत और 13,95,271 करोड़ रुपये राजस्व खर्च के लिए रखे गए हैं। चीन पर नजर रखते हुए प्लान में अंडमान निकोबार कमांड के 'क्षमता विकास' के लिए अलग से सेक्शन रखा गया है, जिसका गठन अक्टूबर 2001 में किया गया था। 

ADS

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
forces seek rs 27 lakh crore for military modernisation

-Tags:#Indian Army#China#Pakistan#Arun Jaitley

ADS

ADS

मुख्य खबरें

ADS

ADS

ADS

ADS

Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo