Top

दार्जिलिंग: इंजीनियर ने सेना की वर्दी पहनकर फिर से बनवाई सड़क

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Jul 22 2017 8:16AM IST
दार्जिलिंग: इंजीनियर ने सेना की वर्दी पहनकर फिर से बनवाई सड़क

जुलाई के बीच में उत्तर-पश्चिम बंगाल के दूसरे हिस्सों को दार्जिलिंग से जोड़ने वाली पंखाबारी रोड भूस्खलन की वजह से बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गई।

सड़क को ठीक करने के लिए तुरंत काम करने की जरूरत थी हालांकि जीजेएम (गोरखा जनमुक्ति मोर्चा) आंदोलन की वजह से पहाड़ियों की स्थिति पहले से ही खराब बनी हुई है।

इसे भी पढ़ें: गौ रक्षकों का दिल्ली में कहर, भैंस ले जाते 6 लोगो को सरे आम पीटा

मोर्चा वालों की लगातार धमकियों के बीच जीटीए(गोरखालैंड टेरिटोरियल एडमिनिस्ट्रेशन) के पीडब्ल्यूडी इंजिनियर अमित घोष ने एक जोखिम भरा फैसला लिया। घोष ने भारतीय सेना की वर्दी पहनी और अपनी जान को जोखिम में डालते हुए सेना की जीप में सवार होकर काम करवाने लगे।

एक वारांगल क्षेत्रीय इंजिनियरिंग कॉलेज के पूर्व छात्र घोष ने अपने रोमांचक अनुभव शेयर किए। कॉलेज से निकलने के बाद घोष पहले मेस ऑफिसर के तौर पर काम कर रहे थे। बाद में उन्होंने पीडब्ल्यूडी जॉइन किया।

दो-दो माह नहीं मिलती तनख्वाह

इलाके हालात पर बात करते घोष ने बताया कि कैसे पहाड़ी इलाकों में संघर्ष वाले माहौल के दौरान सरकारी कर्मचारी अपनी जान का जोखिम लगाकर जीटीए में ड्यूटी करते हैं।

उन्होंने जीटीए कर्मचारियों और अफसरों की आर्थिक स्थिति पर भी जोर देते हुए कहा कि उन्हें 2-2 महीने तक सैलरी नहीं मिलती है।

घोष ने सड़क निर्माण कार्य की चुनौतियों को देखते हुए पहले बॉर्डर रोड ऑर्गनाइजेशन कमिशन से मदद की गुहार की पर ऑफिसर-इंचार्ज ने बताया कि वे चीन बॉर्डर पर सड़क निर्माण में व्यस्त हैं।

बाद में, घोष भारतीय सेना के सुकना स्थित 33 कोर रेजिमेंट से मदद मांगी। लेफ्टिनेंट कर्नल रजत सैनी ने पंखाबारी रोड में सड़क निर्माण दोबारा से शुरू करने के लिए हर संभव मदद करने का आश्वासन दिया।

इसे भी पढ़ें: खुशखबरी! SBI ने अपनी इन सेवाओं पर घटाए 75% चार्ज

बीते एक माह से ज्यादा समय से गोरखालैंड की मांग को लेकर जीजेएम समर्थक प्रदर्शन कर रहे हैं। इस दौरान बड़ी मात्रा में हिंसक घटनाएं भी हो चुकी है।

जीजेएम प्रदर्शनकारियों की आंखों में धूल झोंकने के लिए घोष और उनके साथी मृणालकांति ने सेना की वर्दी पहनना शुरू कर दिया। उन्हें प्रॉजेक्ट साइट पर जाने के लिए सेना की जीप भी उपलब्ध कराई गई थी।

उन्हें सिक्यॉरिटी भी दी गई थी। एक अधिकारी ने कहा कि घोष ने ऐसी स्थिति में भी काम करके एक मिसाल तैयार की है।

ADS

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
engineer dons army uniform to repair roads at darjeeling hills

-Tags:#Darjeeling Hills#Pwd#Gjm#Engineer

ADS

ADS

मुख्य खबरें

ADS

ADS

ADS

ADS

Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo