Hari Bhoomi Logo
शुक्रवार, जुलाई 28, 2017  
Top

इस बार प्लास्टिक से बने किसी भी तरह के तिरंगे को इस्तेमाल करने पर होगी जेल

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Jul 17 2017 3:27AM IST
इस बार प्लास्टिक से बने किसी भी तरह के तिरंगे को इस्तेमाल करने पर होगी जेल

हम सभी का अपने तिरंगे से एक भावनात्मकर रिश्ता है। हमारा तिरंगा हमारे राष्ट्रीय सम्मान का प्रतीक है। लेकिन 15 अगस्त से पहले गलियों लेकर सोशल मीडिया तक तिरंगे ही तिरंगे नजर आते हैं। 

जानकारी के लिए बता दें कि इस वक्त देश में ‘फ्लैग कोड ऑफ इंडिया’ नाम का कानून है, जिसमें तिरंगे को फहराने के कुछ नियम-कायदे है। केंद्रीय गृह मंत्रालय से राज्य सरकारों को आए निर्देश के अनुसार, प्लास्टिक के तिरंगे का उपयोग करने पर तीन वर्ष की कैद या जुर्माना या दोनों सजा दी जाएगी। 

इसे भी पढ़ेंः  अमेरिका की इन तोपों को भारत-चीन सीमा पर किया जाएगा तैनात

कोई शख्स ‘फ्लैग कोड ऑफ इंडिया’ के तहत गलत तरीके से तिरंगा फहराने या उसके अपमान का दोषी पाया जाता है तो उसे जेल भी हो सकती है। इस कोड के तहत दोषी पाए जाने पर तीन साल की सजा या जुर्माना या दोनों भी हो सकते हैं।

तिरंगे से जुड़े कुछ नियम कानून की जानकारी से कई लोग अनजान हैं.... जानें क्या है कानूनययय

तिरंगा बनाने के लिए हमेशा कॉटन, सिल्क या खादी का इस्तेमाल होना चाहिए। प्लास्टिक से बने तिरंगे का इस्तेमाल करना कानूनी अपराध है।

झंडे पर कुछ भी लिखना या बनाना गैरकानूनी है। किसी भी गाड़ी के पीछे, बोट या प्लेन में तिरंगा नहीं यूज किया जा सकता है।

इसे भी पढ़ेंः  जाधव की मां को नहीं मिला वीजा, सुषमा ने किया पाक विदेश मंत्री को तलब 

फटे या क्षतिग्रस्त झंडे को नहीं फहराया जा सकता है। झंडे का प्रयोग किसी प्रकार के यूनीफार्म या सजावट के सामान में नहीं हो सकता है।

किसी बिल्डिंग को ढकने में भी इसका प्रयोग नहीं किया जा सकता है। किसी भी स्थिति में तिरंगा झंडा जमीन पर टच नहीं होना चाहिए।

झंडा सिर्फ राष्ट्रीय शोक के अवसर पर ही आधा झुका रह सकता है। किसी भी दूसरे झंडे को तिरंगा झंडा से ऊपर, ऊंचा या बराबर में नहीं रखा जा सकता है।

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
do not use plastic tricolor flag

-Tags:#Indian Flag#Plastic Tricolor
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo