Breaking News
Top

दिल्ली में पटाखों से ही नहीं इन चीजों से होता है ज्यादा प्रदूषण

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Oct 13 2017 2:46PM IST
दिल्ली में पटाखों से ही नहीं इन चीजों से होता है ज्यादा प्रदूषण

दिल्ली में पटाखों की बिक्री को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला सुना दिया है। कोर्ट ने कहा कि पहले हम देखेंगे कि दीवाली के बाद कितना प्रदूषण नहीं होता है उसके बाद इसका फैसला दिया जाएगा। 

हालांकि, कोर्ट ने प्रदुषण को कम करने का तर्क देते हुए यह फैसला सुनाया है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि सिर्फ पटाखों से ही नहीं बल्कि इन चीजों से भी होता है प्रदूषण।

इसे भी पढ़ें: दिल्ली: पटाखों की बिक्री पर आया सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला

दिल्ली में प्रदुषण का स्तर कम करने के लिए कोर्ट सख्त है। दिवाली 19 अक्टूबर को है और यह फैसला 10 अक्टूबर के बाद 13 अक्टूबर को आया। एक रिपोर्ट के मुताबिक, पटाखा कारोबारियों को 1,000 से 1,500 करोड़ रुपये तक का नुकसान हो सकता है। 

बता दें कि दिल्ली में प्रदुषण का स्तर कम करने के लिए सिर्फ दिवाली पर होने वाला प्रदूषण ही नहीं बल्कि बाकी सप्ताह में रोज-डस्ट, गाड़ियों और आग की वजह से भी हवा दूषित होती है।

वहीं दूसरी तरफ दिल्ली में डीजल से चलने वाले वाहनों की संख्या काफी अधिक है। मॉल्स, होटल्स, अस्पताल और अपार्टमेंट्स में डीजल से चलने वाली चीजों का इस्तेमाल किया जा रहा है। जिससे काफी प्रदूषण होता है।  

इसे भी पढ़ें: हनीप्रीत की पंचकुला कोर्ट में आज होगी पेशी, अभी तक किए 7 बड़े खुलासे

सरकार को प्रदूषण रोकने के लिए सिर्फ हवा ही नहीं, बल्कि जमीन और पानी भी साफ रखना होगा। ऐसे में क्रिसमस पर क्रिसमस ट्री और बकरा ईद पर बकरों को काटने पर रोक लगाने की भी खासी वकालत की जा रही है।  

दिल्ली में 2014-15 में गाड़ियों की संख्या 5.34 लाख थी, जो साल 2015-16 में 8.77 लाख पहुंच गई। जिससे शहर में प्रदूषण का स्तर काफी बढ़ गया। एक रिपोर्ट के मुताबिक, एक साल में 64 फीसदी का इजाफा हुआ। 

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
crackers is not just one factor in delhi these other things pollute

-Tags:#Delhi#Crackers#Surpeme Court#Pollution
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo