Top

गौरक्षकों को हिंसा से जोड़ना ठीक नहीं: मोहन भागवत

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Oct 1 2017 12:22AM IST
गौरक्षकों को हिंसा से जोड़ना ठीक नहीं: मोहन भागवत

पिछले कुछ महीनों में गोरक्षा के नाम पर हुई लोगों की हत्या और हिंसा की घटनाओं पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत ने आज जवाब दिया है। 

विजयदशमी के पर्व पर आरएसएस मुख्यालय में अपने संबोधन में भागवत ने अवैध शरणार्थियों, गौ रक्षकों , जम्मू कश्मीर की स्थिति और आर्थिक हालात जैसे कई विषयों का जिक्र किया।     

आरएसएस प्रमुख ने कहा कि गौरक्षकों को हिंसक घटनाओं के साथ जोड़ना ठीक नहीं है। भागवत ने इसके साथ ही कहा कि गौरक्षकों और गौपालकों को चिन्तित या विचलित होने की आवश्यकता नहीं है। चिंतित आपराधिक प्रवृत्ति के लोगों को होना चाहिए, गौरक्षकों को नहीं।             

मोहन भागवत ने कहा कि गौरक्षा से जुड़े हिंसा व अत्याचार के बहुचर्चित प्रकरणों में जांच के बाद इन गतिविधियों से गौरक्षक कार्यकर्ताओं का कोई संबंध सामने नहीं आया है। 

गोरक्षा के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि कम खर्चे में विषमुक्त खेती करने का सहज सुलभ उपाय गौ आधारित खेती ही है। इसलिये गौरक्षा तथा गौ संवर्धन की गतिविधि संघ के स्वयंसेवक, भारतवर्ष के सभी संप्रदायों के संत, अनेक अन्य संगठन संस्थाएँ तथा व्यक्ति चलाते हैं। 

मोहन भगवत ने आगे कहा कि अनेक मुस्लिम भी गौरक्षा, गौपालन व गौशालाओं का उत्तम संचालन कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि गौरक्षा के विरोध में होने वाला कुत्सित प्रचार बिना कारण ही विभिन्न संप्रदायों के लोगों के मन पर तथा आपस में तनाव उत्पन्न करता है। यह मैने कुछ मुस्लिम मतानुयायी बंधुओं से ही सुना है।   

 
(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
cow protectors are not involved in violence says rss chief

-Tags:#Mohan Bhagwat#RSS#Vijadashashmi#Rohingya
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo