Hari Bhoomi Logo
रविवार, सितम्बर 24, 2017  
Breaking News
बीएचयू कैंपस के अंदर पहुंची पुलिस, छात्रों का हंगामा हुआ तेजबीएचयू: छात्र प्रदर्शन के दौरान कांग्रेस नेता पी.एल पुनिया, राज बब्बर और अजय राय को पुलिस ने रोकादिल्ली तक पहुंची बीएचयू की आग, यूथ कांग्रेस ने जमकर किया प्रदर्शनदिल्ली तक पहुंची बीएचयू की आग, यूथ कांग्रेस ने जमकर किया प्रदर्शनप्रद्युम्न मर्डर केस: आरोपी ड्राइवर अशोक को 14 दिनों की न्यायिक हिरासतलखनऊ: सोमवार सुबह 11 बजे मुलायम सिंह यादव करेंगे प्रेस कॉन्फ्रेंसबीएचयू: छात्राओं ने किया छेड़खानी का विरोध, पुलिस ने बरसाई लाठियांजम्मू-कश्मीर के बारामूला स्थित उड़ी सेक्टर में रात से ही सेना और आतंकियों के बीच मुठभेड़ जारी है
Top

डीएमके नेता वाइको ने वीणा बजाते हुए प्रतिमा और आगे भगवतगीता रखे जाने को लेकर केंद्र और बीजेपी पर लगाया आरोप

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Jul 30 2017 10:07PM IST
डीएमके नेता वाइको ने वीणा बजाते हुए प्रतिमा और आगे भगवतगीता रखे जाने को लेकर केंद्र और बीजेपी पर लगाया आरोप

बीते 27 जुलाई को रामेश्वरम में भारत के पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम की पुण्यतिथि पर उनकी एक प्रतिमा का अनावरण किया गया था। लेकिन इस प्रतिमा के आगे रखी भागवत गीता के रखे होने से विवाद शुरू हो गया।

दरअसल प्रधानमंत्री मोदी बीते गुरुवार को रामेश्वरम के पिकाराम्बू में अब्दुल कलाम की प्रतिमा का अनावरण किया था। लकड़ी से बनी इस प्रतिमा में कलाम को वीणा बजाते हुए दर्शया गया है।

इसे भी पढ़ें:-रामेश्वरम पहुंचे PM मोदी, किया डॉ.ए.पी.जे अब्दुल कलाम स्मारक का उद्घाटन

साथ ही इस प्रतिमा के आगे भगवत गीता को भी दिखाया गया है। जिसके बाद एमडीएमके के नेता वाइको ने वीणा बजाते हुए प्रतिमा और आगे भगवतगीता रखे जाने को लेकर केंद्र सरकार और बीजेपी पर आरोप लगाया।

डीएमके नेता ने आरोप लगाया कि बीजेपी कलाम को भगवा रंग में रंगने की कोशिश कर रही है। डीएमके नेता वाइको ने कहा कि प्रतिमा के साथ गीता के बजाय तमिल किताब 'थिरुकुरल' रखी जानी चहिए। मामला तूल पकड़ने के बाद विवाद को खत्म करने के लिए अब कुरान और बाइबल भी रख दी गई है।

 इसे भी पढ़ें:-नाइजीरिया:बोको हराम ने तेल दल पर किया हमला, 50 लोगों की मौत

वहीं इस मामले पर कलाम के भतीजे शेख सलीम ने कहा कि इस मामले को लेकर अब विवाद नहीं है। क्योंकि प्रतिमा के सामने अब कुरान और बाइबल भी है। उन्होंने कहा कि कलाम को किसी धर्मं के साथ नहीं जोड़ा जा सकता है।
 
कलाम ने सभी धर्मों का गहराई से अध्ययन किया था। उनकी छवि को किसी मजहब से जोड़ना गलत है। वे पूरे देश के लिए आदर्श थे ऐसे में उनकी प्रतिमा को राजनीति से जोड़कर सवाल उठाना सही नहीं है।    
(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
controversy koran and bible were kept on keeping geeta with the statue of kalam

-Tags:#Controversy#Geeta#Abdul Kalam#Koran#Bible
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo