Hari Bhoomi Logo
शनिवार, अप्रैल 29, 2017  
Top

चीन ने बदली चाल, कहा अजहर पर प्रतिबंध लगाने के लिए चाहिए ठोस सबूत

haribhoomi.com | UPDATED Feb 18 2017 3:51PM IST
बीजिंग. भारत से होने वाली रणनीति वार्ता से पहले चीन ने कहा कि जैश-ए-मोहम्मद सरगना मसूद अजहर पर प्रतिबंध लगाने के लिए उसे ठोस सबूत की जरूरत है। जबकि भारत के विदेश सचिव एस जयशंकर और चीन के कार्यकारी उपविदेश मंत्री झांग येसुई के बीच 22 फरवरी को बीजिंग में रणनीतिक वार्ता होनी है। इस मुलाकात में दोनों देशों के बीच आपसी हितों से जुड़े क्षेत्रीय और वैश्विक मुद्दों पर बातचीत होगी।
 
 
चीन विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गेंग सुआंग ने अजहर के मुद्दे पर कहा कि ठोस सबूत मिलने के बाद ही चीन इस कदम का समर्थन करेगा। अगर ठोस सबूत नहीं मिले तो सहमति बनने के आसार कम हैं। आपको बता दें कि इस मामले में भारत के आवेदन पर चीन ने दो बार तकनिकी आधार पर रोड़ा अटकाया था। जबकि इस साल अजहर पर प्रतिबंध लगाने के लिए संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में अमेरिका ने प्रस्ताव पेश किया था। लेकिन, चीन ने इस बार भी तकनीकि आधार पर ही इसे रोक दिया था।
 
 
वहीं एनएसजी में भारत की एंट्री को लेकर जेंग ने कहा कि हम कई बार कह चुके हैं कि यह बहुपक्षीय मुद्दा है। हम टू-स्टेप अप्रोच पर आज भी कायम हैं, जिसके तहत पहले एनएसजी के सदस्य गैर-परमाणु अप्रसार संधि वाले देशों की एंट्री को लेकर सिद्धांत तैयार करें और फिर संबंधित मामलों पर चर्चा की जाए। हमारे रुख में कोई बदलाव नहीं है। भारत के अलावा भी अन्य गैर-परमाणु अप्रसार संधि वाले देश अर्जी दे रहे हैं। सभी अर्जियों पर हमारा रुख एक जैसा है।
 
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo