Breaking News
रिपोर्ट में हुआ खुलासा, कानपुर सेंट्रल ने देश के सबसे गंदे रेलवे स्टेशन में किया टॅाप, यहां देखे पूरी लिस्टकिम जोंग ने दूसरी बार दक्षिण कोरियाई राष्ट्रपति से की मुलाकात, ट्रंप के साथ 12 जून की मुलाकात संभवशर्मनाकः दिल्ली से सटे गुरुग्राम में ऑटो चालक ने अपने साथियों के साथ मिलकर गर्भवती महिला के साथ किया गैंगरेपभारतीय महिला की मौत के बाद आयरलैंड में हटा गर्भपात से बैन, सविता की मौत के बाद जनमत संग्रह से हुआ फैसलापीएम मोदी ने किया ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे का उद्घाटन14वें दिन भी बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम, दिल्ली में 78 तो मुंबई में 86 के पार पहुंचे पेट्रोल के दामनीतीश कुमारः बैंकों की लचर कार्यप्रणाली के चलते लोगों को नहीं मिला नोटबंदी का अपेक्षित लाभपीएम मोदी ने किया दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे का उद्घाटन
Top

भारत पर काबू पाने के लिए चीन ने नेपाल के साथ किए ये तीन करारा!

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Aug 16 2017 11:30AM IST
भारत पर काबू पाने के लिए चीन ने नेपाल के साथ किए ये तीन करारा!

भारत-चीन के बीच चल रहे डोकलाम विवाद को लेकर करीब तीन महीने से दोनों देशों के बीच जुबानी जंग जारी है। लेकिन इस तनाव के बीच चीन ने नेपाल से तीन बड़े करार किए हैं।

बता दें कि यह अहम समझौता चीन के वाइस प्रीमियर वैंग यैंग और नेपात के उप-प्रधानमंत्री विजय कुमार और कृष्ण बहादुर के साथ मुलाकात के बाद हुआ है। चीन ने नेपाल के साथ पॉवर और ऊर्जा सेक्टर में तीन अहम करार किए हैं।

इसे भी पढ़ें: साउथ कोरिया अमेरिका पर किसी भी वक्त कर सकता है बड़ा हमला !

इसके साथ ही हिमालयी देशों में प्राकृतिक गैस और पेट्रोलियम पदार्थों की तलाश के लिए स्टडी पर भी करार हुआ है। इस करार में तीन अहम क्षेत्र को शामिल किया गया है। जिसमें आर्थिक, तकनीकी सहयोग, चाइना एड ऑयल एंड गैस रिसोर्सेज सर्वे प्रोजेक्ट हैं।

दोनों देश इस बात पर सहमत हुए हैं कि नेपाल में हाइड्रोपॉवर प्रोजेक्ट, ट्रांसमिशन लाइन, आर्थिक और तकनीकी विकास के लिए कदम उठाए जाएंगे। लेकिन ये सहमती नेपाल के लिए काफी अहम साबित हो सकती क्योंकि नेपाल में इस समय बिजली की काफी समस्या है। 

वहीं नेपाल के वित्त सचिव शांता राज सुबेदी ने बताया कि इस करार के बाद नेपात में सामाजिक और आर्थिक बदलाव आएगा। उन्होंने कहा कि चीन की ओर से काफी बड़ा सहयोग है, नेपाल ने अपील की थी कि जल्द से जल्द 114 किलोमीटर अरानिको हाइवे को खोला जाए जोकि दोनो देशों को जोड़ता है। नेपाल की इस अपील पर चीन ने सकारात्मक प्रतिक्रिया दी है। 

इसे भी पढ़े:- अवैध रूप से चीनी सीमा में दाखिल हुआ भारत, उठानी पड़ेगी शर्मिंदगी: चीन

बता दें कि नेपाल में बाढ़ और भूस्खलन से करीब 100 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। जिसके बाद चीन प्रीमियर ने नेपाल को एक मिलियन अमेरिकी डॉलर की मदद करने का ऐलान किया था। 

ADS

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
china sign 3 big deals with nepal amidst tension on doklam issue

-Tags:#India-China#Nepal#Three Agreements#China-Nepal#Doklam Issue

ADS

ADS

मुख्य खबरें

ADS

ADS

ADS

ADS

Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo