बिलासपुर

ठेका खोलने के लिए अधिकारियों ने की भगवान की मूर्ति जब्त

By haribhoomi.com | Mar 17, 2017 |
chhattisgarh
बिलासपुर. व्यायाम शाला में अब कसरत नहीं होगी, बल्कि शराब बेची जाएगी। इसी तरह मंदिर में अब आराधना नहीं होगी, उसकी जगह बगल में मदिरापान कराया जाएगा। इसके अलावा दूसरे सार्वजनिक स्थलों पर शराब दुकानें खोली जाएंगी। 
 
सरकार द्वारा शराब बेचे जाने के फैसले के बाद यह स्थिति बनी है, क्योंकि प्रशासन को शराब दुकानों के लिए जगह ही नहीं मिल रही है। स्थान नहीं मिला तो आनन-फानन में कहीं भी शराब बेचने का फैसला ले लिया गया। हालांकि इसका विरोध भी जमकर हो रहा है, लेकिन पुलिस के पहरे में काम पूरा कराया जा रहा है।
 
सुप्रीम कोर्ट की ओर से हाईवे में स्थित शराब दुकानों को हटाने के आदेश के बाद उम्मीद की जा रही थी कि इससे शराब दुकानों की संख्या में कमी आएगी। 
 
ऐसा न होकर अब उल्टे शराब दुकान घनी आबादी के बीच बन रही हैं। प्रशासन और निगम शहरी क्षेत्र में ही 11 शराब दुकानें बनाने जा रहे हैं, लेकिन इसका खुलकर विरोध हो रहा है। इस विरोध को नजरअंदाज करते हुए प्रशासन हर हालत में शराब दुकान बनाने पर अड़ा है। 
 
हेमूनगर में जिम में शराब दुकान बनाई जा रही तो बस स्टैंड में मंदिर के बगल में यात्री प्रतिक्षालय में शराब दुकान का काम पूरा होने को है।
 
जिम में अब कसरत नहीं शराब पीजिए
नगर निगम और आबकारी विभाग ने हेमूनगर स्थित व्यायाम शाला को शराब दुकान में बदलने की तैयारी शुरू कर दी है। इसके लिए यहां पुताई का काम चालू हो गया है। 
 
इसकी खबर लगने के बाद स्थानीय लोगों, खासकर महिलाओं ने विरोध-प्रदर्शन किया और काम रुकवा तो दिया है, लेकिन प्रशासन पुलिस का सहारा लेकर काम शुरू करवाने की बात कह रहा है। 
 
दूसरी ओर महिलाओं का कहना है कि व्यायाम शाला को स्थानीय लोगों के स्वास्थ्य के लिए बनाया गया था। अब निगम वहां शराब दुकान खुलवाकर स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ करने की तैयारी कर रहा है।
 
स्कूल और घनी आबादी के बीच
हेमूनगर में जहां शराब दुकान बनवाई जा रही है, वहां पहले से ही पास में स्कूल और नेशनल हाईवे की सड़क मौजूद है। व्यायाम शाला पहले ही घनी आबादी वाली जगह में मौजूद है। 
 
आसपास लोगों के घर मौजूद है। महिलाओं ने आरोप लगाया कि यहां शराब दुकान खुली तो आसपास का माहौल खराब होगा। लोग शराब पीने के आदी हो सकते हैं।
 
दो मंदिरों के बगल में शराब दुकान
कभी बस यात्रियों से गुलजार रहने वाले पुराने बस स्टैंड के यात्री प्रतीक्षालय को नगर निगम ने शराब दुकान में तब्दील करने का काम तेजी से शुरू कर दिया है, जबकि यहां बाजू में ही जिला अस्पताल और सामने हनुमान मंदिर स्थित है।
 
यहां के स्थानीय व्यापारी शराब पीने वालों से पहले से ही परेशान हैं। ऐसे में उनकी परेशानी और बढ़ने वाली है। यहां दुकान बनाने का काम तेजी से चल रहा है।
 
सारे नियम-कायदे कर दिया दरकिनार
जगह चयन को लेकर आबकारी विभाग अपने ही मापदंड से पीछे हट गया है। शराब दुकान किसी अस्पताल, मंदिर, शैक्षणिक संस्था के 200 मीटर के आसपास नहीं होनी चाहिए, जबकि पुराना बस स्टैंड जिला अस्पताल के ठीक बाजू में है।
 
इसके अलावा पुराना बस स्टैंड परिसर में ही सालों पुराना मंदिर भी है। सड़क के दूसरी ओर हनुमान मंदिर है। यहां के व्यापारियों का कहना है कि बस स्टैंड का पूरा क्षेत्र व्यावसायिक है। यहां चारों ओर दुकानें हैं। बस स्टैंड के अंदर भी लोग पीढ़ियों से अपनी दुकानें चला रहे हैं। 
 
शराब दुकान आने से अब उनके सामने भी नई समस्या खड़ी हो गई है। पूरा परिसर शाम होते ही सूना हो जाता है। ऐसे में बगल में शराब दुकान खुल जाने से यह शराबियों के हवाले हो जाएगा।
 
बालाजी की प्रतिमा जब्त
पुराना बस स्टैंड स्थित राज्य परिवहन कार्यालय में कीमती पत्थर से बनी बालाजी की प्रतिमा लगी हुई थी। नगर निगम ने पुराना बस स्टैंड में शराब दुकान बनाने के लिए उसे जब्त कर लिया।
 
इस दौरान उसे सार्वजनिक जगह पर स्थापित होने की बात कहकर कार्रवाई की गई थी। प्रतिमा हटने के कुछ दिन बाद ही यात्री प्रतीक्षालय में शराब दुकान बनने लगी। इसके बाद लोगों को इसकी जानकारी हुई तो विरोध शुरू हो गया। लेकिन विरोध को नजर अंदाज करते हुए काम चालू रखा गया है।

प्रशासन ने किया है स्थल चयन
जगह चयन प्रशासन स्तर पर किया गया है। नगर निगम पूरे मामले में सिर्फ निर्माण एजेंसी है। जल्द से जल्द बिना विवाद के काम पूरा कराने की कोशिश की जा रही है।
- सौमिल रंजन चौबे, आयुक्त, नगर निगम
 
गठित की गई थी टीम
जगह चयन के लिए प्रशासन स्तर पर एक टीम का गठन किया गया था। सभी की सहमित से दुकान बनाने का फैसला लिया गया है। विरोध को ध्यान में रखा जा रहा है। चर्चा जारी है।
- एल.एल ध्रुव, सहायक आयुक्त, आबकारी विभाग
 
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
  • Post a comment
  • Name *
  • Email address *

  • Comments *
  • Security Code *
  • NODAQ
  •       
    कमेंट्स कैसे लिखें !
    जिन पाठकों को हिन्दी में टाइप करना आता है, वे युनीकोड मंगल फोंट एक्टिव कर हिन्दी में सीधे टाइप कर सकते हैं। जिन्हें हिन्दी में टाइप करना नहीं आता वे Roman Hindi यानी कीबोर्ड के अंग्रेजी अक्षरों की मदद से भी हिन्दी में टाइप कर सकते हैं। उदाहरण के लिए यदि आप लिखना चाहें- “भारत डिफेंस कवच एक उपयोगी पोर्टल है’, तो अंग्रेजी कीबोर्ड से टाइप करें, bharat defence kavach ek upyogi portal hai. हर शब्द के बाद स्पेस बार दबाएंगे तो अंग्रेजी का अक्षर हिन्दी में टाइप होता चला जाएगा। यदि आप अंग्रेजी में अपने विचार टाइप करना चाहें तो वह विकल्प भी है।
    Haribhoomi
    Haribhoomi on Social Media
    ऐसा झटका, कहीं अपना मानसिक संतुलन न खो दें गोविंदा

    ऐसा झटका, कहीं अपना मानसिक संतुलन न खो ...

    फिल्म का बजट 22 करोड़ था लेकिन फिल्म ने दो दिनों में 50 लाख का कलेक्शन किया है।

    सिंगर अभिजीत ने कहा- तीनों खान हैं देशद्रोही, फिल्मों में बजावा रहे हैं मौला-मौला

    सिंगर अभिजीत ने कहा- तीनों खान हैं ...

    अभिजीत ने आगे कहा कि शिरीष जान बूझकर सिर्फ हिन्दुओं को ही टार्गेट करते हैं।

    अनुष्का शर्मा की फिल्म 'फिल्लौरी' सिनेमाघरों में हुई सुस्त, जानिए कितने कमाए

    अनुष्का शर्मा की फिल्म 'फिल्लौरी' ...

    फिल्लौरी एक रोमांटिक कॉमेडी फिल्म है जिसमें अनुष्का एक फ्रेंडली भूत बनी हैं।