बस्तर

नक्सलियों की करतूत, पहाड़ से गिराई 1000 साल पुरानी गणेश प्रतिमा

By haribhoomi.com | Jan 28, 2017 |
ganesh
दंतेवाड़ा. ढोलकाल की 2500 फीट ऊंची पहाड़ियों पर स्थापित 1000 साल पुरानी ऐतिहासिक व दुर्लभ गणेश प्रतिमा पहाड़ी से गिरी और उसके कई टुकड़े हो गए। इस ऐतिहासिक धरोहर के खंडित होने की वजह क्या है, इसकी जांच की जा रही है। पुलिस का कहना है, माओवादियों ने अपनी राह आसान करने के लिए प्रतिमा खंडित की है, जबकि कुछ ग्रामीणों का दावा है कि इस इलाके में दो दिन पूर्व हेलीकाफ्टर को उड़ाने भरते उन्होंने देखा था। 
 
 
ढोलकाल पहाड़ी दंतेवाड़ा जिला मुख्यालय से 14 किलोमीटर है। इस जगह को पर्यटन के रूप में विकसित किया जा रहा है। यहां का सबसे बड़ा आकर्षण खुले में 2500 फीट ऊंची पहाड़ी की चोटी पर विराजित यही प्रतिमा ही थी। नक्सल प्रभावित इस इलाके में प्रतिमा की वजह से ही पर्यटकों का आना-जाना शुरू हुआ था। 
 
छिंदक नागवंशी काल की ढाई फीट की इस मूर्ति के गायब होने का मामला 26 जनवरी को खुला। वहां दर्शनार्थ पहुंचे लोगों को मूर्ति गायब मिली। उसके बाद सोशल मीडिया में इसका हल्ला मचा और प्रशासन के लोग भागे-भागे वहां पहुंचे। रेस्क्यू टीम भी पहुंची। खोजबीन के दौरान प्रतिमा पहाड़ी से 100 फीट नीचे कई टुकड़ों में बरामद हुई। 
 
पुलिस का कहना है, प्रतिमा अपने आप नहीं गिरी है। इसे माआवादियों ने गिराया है। इधर, ग्रामीणों का कहना है , दो दिन पूर्व पहाड़ियों पर हेलीकॉप्टर को मंडराते हुए देखा गया था। 
 
 
कलेक्टर सौरभ कुमार ने कहा कि पुरातत्व विभाग से मूर्ति की कीमत का आंकलन कराया जाएगा। ग्राम सभा होने के बाद इस मूर्ति पर फैसला लिया जाएगा। जवानों ने निकाले मूर्ति के टुकड़े मूर्ति गायब होने के बाद पुलिस प्रशासन दल-बल के साथ खोजबीन में जुटा रहा। लगभग दो घंटे बाद सैकड़ों की संख्या में पहुंचे जवानों ने पहाड़ी से नीचे 100 फीट की गहराई में मूर्ति के टुकड़ों को खोजा। 
 
क्या है ढोलकाल 
बीहड़ जंगलों को चीरने के बाद 2500 फीट की उंचाई पर 10वीं शताब्दी के छिंदक नागवंशी काल की गणेश प्रतिमा यहां स्थापित थी। ग्रामीणों की पहल के बाद ये प्रतिमा लोगों की नजर में आई। इसके बाद मीडिया की नजर पड़ी और प्रशासन ने पर्यटन स्थ्ल बनाए जाने का दावा किया।
 
माओवादियों ने तोड़ी प्रतिमा: एसपी 
पुलिस अधीक्षक कमलोचन कश्यप ने कहा कि यह इलाका संवेदनशील है। पहुंच मार्ग बनने के बाद लोगों का आना जाना काफी होता, जिससे माओवादियों को काफी परेशानी होती। यही वजह है कि माओवादियों ने गणेश की प्रतिमा को खंडित कर दिया। 
 
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
  • Post a comment
  • Name *
  • Email address *

  • Comments *
  • Security Code *
  • OPFLW
  •       
    कमेंट्स कैसे लिखें !
    जिन पाठकों को हिन्दी में टाइप करना आता है, वे युनीकोड मंगल फोंट एक्टिव कर हिन्दी में सीधे टाइप कर सकते हैं। जिन्हें हिन्दी में टाइप करना नहीं आता वे Roman Hindi यानी कीबोर्ड के अंग्रेजी अक्षरों की मदद से भी हिन्दी में टाइप कर सकते हैं। उदाहरण के लिए यदि आप लिखना चाहें- “भारत डिफेंस कवच एक उपयोगी पोर्टल है’, तो अंग्रेजी कीबोर्ड से टाइप करें, bharat defence kavach ek upyogi portal hai. हर शब्द के बाद स्पेस बार दबाएंगे तो अंग्रेजी का अक्षर हिन्दी में टाइप होता चला जाएगा। यदि आप अंग्रेजी में अपने विचार टाइप करना चाहें तो वह विकल्प भी है।
    Haribhoomi
    Haribhoomi on Social Media
    Happy Birthday: जब कंगना रनौत ने अचार-रोटी खाकर गुजारे दिन

    Happy Birthday: जब कंगना रनौत ने ...

    एक प्ले में कंगना ने मेल-फीमेल दोनों किरदार निभाए थे।

    मजबूरी में अपने शो में कपिल ने बुलाए ये कॉमेडियंस, सुनील को मारा था जूता

    मजबूरी में अपने शो में कपिल ने बुलाए ये ...

    एक चश्मदीद ने बताया कि कपिल ने विहस्की की एक पूरी बोतल ही गटक ली थी।

    सीधी सावित्री से टेढ़ी हुई सोनाक्षी सिन्हा, देखिए 'गुलाबी नूर' का बोल्ड डांस

    सीधी सावित्री से टेढ़ी हुई सोनाक्षी ...

    सोनाक्षी की फिल्म नूर का पहला गाना गुलाबी आंखें रिलीज हो गया है।