बस्तर

बस्तरः मोटरसाइकिल एम्बुलेंस से बचाई 200 महिलाओं की जान

By haribhoomi.com | Jul 28, 2016 |
bastar
नई दिल्ली. छत्तीसगढ़ के दूरदराज के जंगलों में रहने वाले लोगों को एक साल पहले तक मुश्किल से ही कोई इमरजेंसी स्वास्थ्य सेवा उपलब्ध थी। जंगल के अंदर ऊंचा-नीचा रास्ता होने के कारण एम्बुलेंस दूरदराज के इलाकों में समय पर नहीं पहुंच पाते थे।

इस कारण लोगों की मौत हो जाती थी क्योंकि वे समय पर अस्पताल नहीं पहुंच पाते थे, लेकिन अब मोटरसाइकिल एम्बुलेंस के आने के बाद लोग किसी आपात परिस्थिति में समय पर अस्पताल पहुंच कर इलाज करा पाते हैं। इस मोटरसाइकिल एम्बुलेंस से सबसे ज्यादा फायदा गर्भवती महिलाओं को हुआ है क्योंकि अब वे प्रसव के लिए अस्पताल जा पाती हैं।

इस मोटरसाइकिल एम्बुलेंस ने 200 गर्भवती महिलाओं की जान बचाई है। इस आविष्कार की वजह से बस्तर के नक्सल प्रभावित नारायणपुर जिले में गर्भवती महिलाओं की मौत और शिशु मृत्यु दर में गिरावट दर्ज की गई है। इस तरह के मोटरसाइकिल एम्बुलेंस का कंसेप्ट अफ्रीकी देशों से अपनाया गया है।

द लॉजिकल इंडियन की रिपोर्ट के मुताबिक, मोटरसाइकिल एम्बुलेंस में मरीज की सुविधा के हिसाब से एक साइड-कैरेज लगाया गया है। इन मोटरसाइकिल एम्बुलेंस को वहां के स्थानीय लोग ही चलाते हैं, लेकिन पहले उन्हें प्राथमिक उपचार की ट्रेनिंग दी जाती है। 

यूनिसेफ के स्वास्थ्य विशेषज्ञ अजय त्राक्रू ने बताया कि गर्भवती महिलाएं हमारी सबसे पहली प्राथमिकता हैं क्योंकि छत्तीसगढ़ के इस इलाके में गर्भवती महिलाओं की मौत के आंकड़ें अधिक हैं। इस एक्सपेरिमेंट के जरिए हमलोग दूरदराज के जंगलों में रहने वाली गर्भवती महिलाओं को आवश्यक स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया करा रहे हैं।

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, रायपुर इस मोटरसाइकिल एम्बुलेंस के डिजाइन को और बेहतर बनाने पर काम कर रहा है, जिससे मरीजों को और ज्यादा सुविधा हो सके। इस मोटरसाइकिल एम्बुलेंस की कीमत 1 लाख 70 हजार रुपए है और एक महीने में इस पर 15 हजार रुपए खर्च आते हैं।
 
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलोकरें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
  • Post a comment
  • Name *
  • Email address *

  • Comments *
  • Security Code *
  • PBECD
  •       
    कमेंट्स कैसे लिखें !
    जिन पाठकों को हिन्दी में टाइप करना आता है, वे युनीकोड मंगल फोंट एक्टिव कर हिन्दी में सीधे टाइप कर सकते हैं। जिन्हें हिन्दी में टाइप करना नहीं आता वे Roman Hindi यानी कीबोर्ड के अंग्रेजी अक्षरों की मदद से भी हिन्दी में टाइप कर सकते हैं। उदाहरण के लिए यदि आप लिखना चाहें- “भारत डिफेंस कवच एक उपयोगी पोर्टल है’, तो अंग्रेजी कीबोर्ड से टाइप करें, bharat defence kavach ek upyogi portal hai. हर शब्द के बाद स्पेस बार दबाएंगे तो अंग्रेजी का अक्षर हिन्दी में टाइप होता चला जाएगा। यदि आप अंग्रेजी में अपने विचार टाइप करना चाहें तो वह विकल्प भी है।
    Haribhoomi
    Haribhoomi on Social Media
    सिंगर बनी परिणीती चोपड़ा ने भी गाया गाना, देखें वीडियो

    सिंगर बनी परिणीती चोपड़ा ने भी गाया ...

    परिणीति का गाया हुआ पहला गाना ''माना के हम यार नहीं'' रिलीज हो गया है।

    सुनील ने सपोर्ट करने के लिए फैंस का किया धन्यवाद, लिखी भावुक पोस्ट

    सुनील ने सपोर्ट करने के लिए फैंस का ...

    सुनील ने अपने बेटे मोहन की सोते हुए एक फोटो पोस्ट की है।

    हाफ गर्लफ्रेंड में कुछ ऐसा रोमांस करते दिखेंगे श्रद्धा और अर्जुन, देखिए फर्स्ट लुक

    हाफ गर्लफ्रेंड में कुछ ऐसा रोमांस करते ...

    हाफ गर्लफ्रेंड का पहला पोस्टर जारी कर दिया गया है।