Breaking News
Top

कैग रिपोर्ट में खुलासा: रेलवे में परोसा जाने वाला खाना इंसानों के खाने लायक नहीं

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Jul 22 2017 12:36AM IST
कैग रिपोर्ट में खुलासा: रेलवे में परोसा जाने वाला खाना इंसानों के खाने लायक नहीं

कैग रिपोर्ट में शुक्रवार को एक सनसनीखेज खुलासा हुआ है। कैग ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि ट्रेन में परोसा जाने वाला खाना इंसानों के खाने लायक नहीं है।

दूषित खाद्य पदार्थों, रिसाइकिल किया हुआ खाद्य पदार्थ और डब्बा बंद व बोतलबंद वस्तुओं का उपयोग उस पर लिखी इस्तेमाल की अंतिम तारीख के बाद भी धरल्ले से किया जा रहा है।

साफ सफाई का ध्यान नहीं

रिपोर्ट के अनुसार, जांच में यह भी पाया गया है कि रेलवे परिसरों और ट्रेनों में साफ-सफाई का बिलकुल ध्यान नहीं रखा जा रहा है। इसके अलावा, ट्रेन में बिक रहीं चीजों का बिल न दिए जाने और फूड क्वॉलिटी में कई तरह की खामियों की भी शिकायतें हैं।

यह भी पढ़ें- इंडियन रेलवे ने लिए ये 6 बड़े फैसले, जानिए यात्रियों पर क्या पढ़ेगा असर

सीएजी और रेलवे की जॉइंट टीम ने 74 स्टेशनों और 80 ट्रेनों का मुआयना करने के बाद यह रिपोर्ट तैयार की है। ऑडिट रिपोर्ट में लिखा है, 'पेय पदार्थों को तैयार करने के लिए नल से सीधे अशुद्ध पानी का इस्तेमाल किया जा रहा था।

कूड़ेदान ढके नहीं हुए थे और उनकी नियमित अंतराल पर सफाई नहीं हो रही थी। खाने की चीजों को मक्खी, कीड़ों और धूल से बचाने के लिए उन्हें ढककर नहीं रखा जा रहा था। इसके अलावा, ट्रेनों में चूहे, कॉकरोच भी घुमते हुए पाए गए।

दुनिया में चौथा सबसे बड़ा रेल नेटवर्क

गौरतलब है कि भारतीय रेलवे दुनिया में चौथा सबसे बड़ा रेल नेटवर्क है। भारतीय रेल के पास 70,000 से अधिक पैसेंजर कोच और 11,000 से अधिक इंजन है।

यह भी पढ़ें-मुंबई से गोवा के बीच चली तेजस, जानें इसकी खूबियां

2015-16 के आंकड़े के अनुसार 13, 313 पैसेंजर ट्रेन हर दिन लगभग 7, 000 स्टेशनों के बीच पटरी पर दौड़ती है, जिनमें लगभग 2 करोड़ 20 लाख लोग सफर करते हैं। लेकिन इस रिपोर्ट के बाद हम और आप ट्रेन का खाना खाने से पहले एक बार जरूर सोचेंगे।

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
cag report says indian railways serving food unfit for humans

-Tags:#Indian Railways#Cag report#Railway Campus#Train
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo