ब्लॉग

क्या अब सुधरेगा पाक

By प्रभात कुमार रॉय | Oct 03, 2016 |
india
भारतीय सेना के जाबांजों ने कश्मीर घाटी के मध्य में विद्यमान पीओके में आईएसआई द्वारा संचालित आतंकी प्रशिक्षण शिविरों पर सजिर्कल अटैक अंजाम दिया। सेना के कमांडो ने करीब चालीस दहशतगदरें और दो पाक सैनिकों को हलाक करके इतिहास रच डाला है। क्या पाक सबक लेगा? शहीद-ए-आजम भगत सिंह के जन्म दिवस 28 सितंबर को रात्रिकाल में भारतीय सेना के जाबांजों ने कश्मीर घाटी के मध्य विद्यमान कथित नियंत्रण रेखा को चीर कर पाक अधिकृत कश्मीर घाटी में पीर पंजाल की पहाड़ियों के मध्य पाक आईएसआई द्वारा संचालित जेहादी सैन्य शिविरों पर प्रबल आक्रमण अंजाम दिया।
 
भारतीय सेना के कमांडो दस्तों ने सर्जिकल स्ट्राइक द्वारा करीब चालीस दहशतगदरें और दो पाक अफसरों एवं सैनिकों को हलाक करके स्वर्णिम इतिहास रच डाला है। भारत को प्राय: एक सॉफ्ट स्टेट करार दिया जाता रहा है, क्योंकि विगत 28 वर्षों से पाकिस्तान की ओर से संचालित प्रॉक्सीवॉर को बड़े ही सब्र-ओ-शुक्र से झेलता आया है। 28 सिंतबर की ऐतिहासिक रात्रि को भारत ने कथित सॉफ्ट स्टेट का अपना चोला उतार फेंका है और अपने सैन्य धैर्य का परित्याग करके शहीद-ए-आजम भगत सिंह का बंसती चोला धारण कर लिया है। बंसती चोला पहनकर पाकिस्तान के प्रत्येक खूनी प्रहार का उसी की भाषा में मुंहतोड़ उत्तर प्रदान करने के लिए भारत अब आक्रमक तौर पर कटिबद्ध हो उठा है। 
 
जम्मू-कश्मीर, पंजाब, राजस्थान और गुजरात के सीमावर्ती गांवों को दस किलोमीटर तक तत्काल खाली कराके, भारत ने स्पष्ट तौर पाक हुकूमत और फौज को अपना प्रबल पैगाम पेश कर दिया है कि भारत अब न्यूक्लियर युद्ध की गीदड़ भभकियों से एकदम बैखौफ होकर पाक की ओर से संचालित प्रॉक्सीवॉर की साजिशों से पूर्णत: निपटने के लिए तैयार है। पाक हुकूमत की पाखंडी और झूठी फितरत का एक बार फिर से दीदार हो गया, जबकि भारतीय सैन्य कमांडो दस्तों द्वारा आतंकी शिविरों पर अंजाम दी गई निर्णायक विध्वंसक कार्रवाई को पाक हुकूमत द्वारा भारतीय सैनिकों की ओर से अंजाम दी गई क्रॉस बॉर्डर फायरिंग करार दिया गया, जिसमें दो पाक सैनिकों की हलाकत की पुष्टि की गई। पाकिस्तान को भारत के हाथों चार बड़े युद्धों में शिकस्त का सामना करना पड़ा है।
 
विगत चार युद्धों में पराजय का सामना करने के बावजूद पाकिस्तान हुकूमत और फौज ने कतई कोई संजीदा सबक नहीं सीखा है। विगत 28 साल से भारत से सीधा युद्ध अंजाम देने के स्थान पर पाक ने जेहादियों द्वारा संचालित छद्म युद्ध की रणनीति अख्तियार की गई है। कश्मीर घाटी पर छल और बल द्वारा आधिपत्य करने की पाक रणनीति के तहत जारी प्रॉक्सी वॉर में करीब एक लाख से अधिक इंसानों की कुर्बानियां हो चुकी है। भारत ने पाक द्वारा संचालित प्रॉक्सीवार से निपटने के लिए पूर्णत: कमर कस ली है। 
 
पठानकोट और उरी इलाकों में अंजाम दिए गए पाक प्रायोजित आतंकी आक्रमणों के पश्चात भारत ने कूटनीतिक मोर्चे पर शानदार कामयाबी प्राप्त की है। यहां तक पाक का सबसे निकट दोस्त समझे जाने वाले चीन द्वारा भी भारतीय सैन्य कमांडो द्वारा सरहद लांघ करके अंजाम दी गई कार्रवाई के पश्चात पाक के पक्ष में खुलकर बयान नहीं दिया गया। वरना चीन द्वारा फरमा दिया गया है कि दोनों देशों के साथ वह निरंतर कूटनीतिक संपर्क कायम किए हुए है और विवाद को बातचीत द्वारा सुलझाने के पक्ष में सक्रिय है।
 
अमेरिका ने तो पहली बार कूटनीतिक तौर पर अपने पंरपरागत परम मित्र पाकिस्तान का साथ छोड़ दिया है और जेहादी आतंकवाद के विरुद्ध भारतीय कार्रवाई का खुलकर सर्मथन किया है। अमेरिका ने पाक हुकूमत को नसीहत प्रदान की है कि वह खुद ही भारत पर आतंकी आक्रमण करने वाले दहशतगदरें को खत्म करे। जेहादी आतंकवाद से त्रस्त आ चुका संपूर्ण यूरोप तो भारत के पक्ष में पहले से ही खड़ा है। पाकिस्तान ने कूटनीतिक तौर पर स्वयं को विश्व पटल पर कभी इतना अलग-थलग नहीं पाया था, जितना कि इस वक्त पाया है। 
 
संयुक्त राष्ट्र में नवाज शरीफ के कश्मीर राग-अलाप को किसी ने भी संजीदगी से नहीं सुना। संयुक्त राष्ट्र में भारतीय विदेशमंत्री सुषमा स्वराज ने दो टूक शब्दों में पाक को कड़ा प्रत्युतर पेश कर दिया। पाक के विरुद्ध भारत को विश्व पटल पर कूटनीतिक तौर पर शानदार कामयाबी हासिल हुई है। पाकिस्तान वस्तुत: जेहादी आतंकवाद की बड़ी फैक्टरी बन चुका है, जो आतंकवाद का बड़ा निर्यातक देश भी है। भारत द्वारा पेश किए गए इस कटु तथ्य को अब समस्त दुनिया ने स्वीकार कर लिया है।
 
पाकिस्तान में आयोजित होने वाले सार्क सम्मेलन का बॉयकॉट करने के लिए भारत के साथ अफगानिस्तान, भूटान,बांग्लादेश और र्शीलंका खड़े हो गए हैं, किन्तु इन सभी बदतर हालात को मद्देनजर रखते हुए क्या पाकिस्तान की जेहादपरस्त फौज अपने चरित्र और किरदार को परिवर्तित कर देगी और क्या पाकिस्तानी फौज के हाथों की कठपुतली बन बैठी नवाज हुकूमत गुड और बैड जेहादियों के प्रबल प्रश्न पर अपना नजरिया और कारकर्दगी बदल डालेगी?
 
छल-बल से कश्मीर घाटी हड़पकर लेने की मानसिकता का पाकिस्तान हुकूमत और फौज कदापि परित्याग नहीं करेगी। भारत कदाचित युद्ध प्रिय राष्ट्र नहीं है, किन्तु पाक ने विगत 28 साल से जो प्रॉक्सीवॉर भारत पर थोप रखी है और इसका निर्णायक निपटारा करने के लिए अब संपूर्ण भारत उद्यत हो उठा है। 
 
भारत के विरुद्ध जेहादी आक्रमणों का नृशंस सिलसिला यदि प्रॉक्सीवॉर के माध्यम से पाकिस्तान भविष्य में भी जारी रखता है और अपनी जेहादी आतंकवाद की फितरत को बदस्तूर कायम रखता है तो अब भविष्य में भारत निश्चित तौर पर आतंकवादी आक्रमणों के प्रतिकार में कड़ी सैन्य कार्रवाई द्वारा अंजाम देगा। पाक द्वारा संचालित प्रॉक्सीवॉर के प्रत्युतर में भारत ने निर्णायक युद्ध के लिए तैयार हो जाने का पैगाम अपने सभी सरहदी गांवों को तत्काल प्रभाव से खाली कराके दे दिया है।
 
सिंधु जल संधि के समापन से लेकर और पाक को मोस्ट फेवर्ड नेशन का दर्जा खत्म करने तक भारत सरकार अनेक कठोर निर्णय ले सकती है। भारत वस्तुत: पाक को आज भी अपने परिवार अपने ही कुनबे का देश करार देता है और विवादों को शांति और सुलह से निपटाने का सदैव पक्षधर रहा है, किन्तु भारत का अब नजरिया एकदम स्पष्ट है कि आतंकवाद और शांति-वार्ता साथ साथ नहीं चल सकती है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के शब्दों में कहे तो खून और पानी साथ साथ नहीं बह सकते हैं।
 
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
  • Post a comment
  • Name *
  • Email address *

  • Comments *
  • Security Code *
  • FPCJP
  •       
    कमेंट्स कैसे लिखें !
    जिन पाठकों को हिन्दी में टाइप करना आता है, वे युनीकोड मंगल फोंट एक्टिव कर हिन्दी में सीधे टाइप कर सकते हैं। जिन्हें हिन्दी में टाइप करना नहीं आता वे Roman Hindi यानी कीबोर्ड के अंग्रेजी अक्षरों की मदद से भी हिन्दी में टाइप कर सकते हैं। उदाहरण के लिए यदि आप लिखना चाहें- “भारत डिफेंस कवच एक उपयोगी पोर्टल है’, तो अंग्रेजी कीबोर्ड से टाइप करें, bharat defence kavach ek upyogi portal hai. हर शब्द के बाद स्पेस बार दबाएंगे तो अंग्रेजी का अक्षर हिन्दी में टाइप होता चला जाएगा। यदि आप अंग्रेजी में अपने विचार टाइप करना चाहें तो वह विकल्प भी है।
    Haribhoomi
    Haribhoomi on Social Media
    सिंगर बनी परिणीती चोपड़ा ने भी गाया गाना, देखें वीडियो

    सिंगर बनी परिणीती चोपड़ा ने भी गाया ...

    परिणीति का गाया हुआ पहला गाना ''माना के हम यार नहीं'' रिलीज हो गया है।

    सुनील ने सपोर्ट करने के लिए फैंस का किया धन्यवाद, लिखी भावुक पोस्ट

    सुनील ने सपोर्ट करने के लिए फैंस का ...

    सुनील ने अपने बेटे मोहन की सोते हुए एक फोटो पोस्ट की है।

    हाफ गर्लफ्रेंड में कुछ ऐसा रोमांस करते दिखेंगे श्रद्धा और अर्जुन, देखिए फर्स्ट लुक

    हाफ गर्लफ्रेंड में कुछ ऐसा रोमांस करते ...

    हाफ गर्लफ्रेंड का पहला पोस्टर जारी कर दिया गया है।