Breaking News
Top

सनकी तानाशाह किम जोंग उन के डर से सेंसेक्स में भारी गिरावट, निफ्टी भी लुढका

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Sep 23 2017 2:42AM IST
सनकी तानाशाह किम जोंग उन के डर से सेंसेक्स में भारी गिरावट, निफ्टी भी लुढका

उत्तर कोरिया को लेकर भू-राजनैतिक तनाव बढ़ने तथा अर्थव्यवस्था को गति देने के लिए सरकार द्वारा खर्च बढ़ाने से राजकोषीय गणित गड़बड़ाने की आशंका में शुक्रवार को शेयर बाजार में बिकवाली का जोर रहा।

सप्ताह के अंतिम दिन बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स 447 अंक टूट गया। यह नौ महीने में इसकी एक दिन की सबसे बड़ी गिरावट है। वहीं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 10,000 अंक से नीचे आ गया।        

इसे भी पढ़ें- शेयर बाजार का ऐतिहासिक दिन, निफ्टी पहली बार 10 हजार पार, सेंसेक्स 32300 क्रॉस 

अमेरिका ओर उत्तर कोरिया के बीच वाकयुद्ध और तेज होने से बाजार में आशंका बढ़ी है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की ओर से उत्तर कोरिया को धमकी देने के जवाब में उत्तर कोरिया ने ट्रंप को विक्षिप्त दिमाग वाला व्यक्ति बताया है।

उत्तर कोरिया के विदेश मंत्री ने संकेत दिया है कि वह प्रशांत महासागर के ऊपर हाइड्रोजन बम फोड़ सकता है।

15 दिसंबर 2016 के बाद बड़ी गिरावट              

बंबई शेयर बाजार का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स पूरे दिन नकारात्मक दायरे में रहा। एक समय यह 31,886.09 अंक के निचले स्तर तक आया। अंत में सेंसेक्स 447.60 अंक या 1.38 प्रतिशत के नुकसान से 31,922.44 अंक पर बंद हुआ। 

यह पिछले साल 15 नवंबर के बाद एक दिन की सबसे बड़ी गिरावट है। 11 सितंबर के बाद यह सेंसेक्स का सबसे निचला बंद स्तर है। उस दिन सेंसेक्स 31,882.16 अंक पर बंद हुआ था।        

नेशनल स्टाक एक्सचेंज का निफ्टी भी बिकवाली दबाव में रहा और अंत में यह 157.50 अंक या 1.56 प्रतिशत के नुकसान से 9,964.40 अंक पर बंद हुआ।

विदेशी निवेशक बिकवाल बने

जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज के मुख्य बाजार रणनीतिकार आनंद जेम्स ने कहा कि कोरिया तनाव की वजह से वैश्विक शेयर बाजार जोखिम नहीं उठाने के रुख में हैं।

इससे गिरावट का रुख और बढ़ा है। वायदा और विकल्प का निपटान नजदीक आने की वजह से भी तरलता पर दबाव बना है। विदेशी संस्थागत निवेशक शुद्ध बिकवाल बने हुए हैं।

अटकलों से रुपए में गिरावट     

निवेशकों को चिंता है कि यदि सरकार अर्थव्यवस्था में पुनरोद्धार के लिए कुछ अधिक खर्च करती है तो इससे राजकोषीय लक्ष्य प्रभावित हो सकते हैं। कारोबार के दौरान एक समय रुपया डालर के मुकाबले छह महीने के निचले स्तर तक गिर गया।

अमेरिकी फेडरल रिजर्व द्वारा भारी प्रोत्साहन को वापस लेने के संकेत और राजकोषीय घाटा बढ़ने की अटकलों से रुपए में गिरावट आई।

ये शेयर रहे नुकसान में       

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कल उचित समय पर उचित कार्रवाई का भरोसा दिलाया है। एशियाई बाजारों में भी भारी गिरावट से यहां धारणा प्रभावित हुई।        

सेंसेक्स की कंपनियों में टाटा स्टील का शेयर 4.70 प्रतिशत टूटकर 654.55 रुपए पर बंद हुआ। एलएंडटी में 3.49 प्रतिशत का नुकसान रहा।

रिलायंस इंडस्ट्रीज, आईसीआईसीआई बैंक, हीरो मोटोकार्प, एसबीआई और अडाणी पोटर्स के शेयर भी नीचे आए।

एनडीटीवी में पांच फीसदी उछाल       

मीडिया कंपनी एनडीटीवी का नियंत्रण स्पाइसजेट के अजय सिंह के हाथों में जाने की अटकलों के बीच कंपनी का शेयर पांच प्रतिशत तक चढ़ गया। 

बंबई शेयर बाजार में एनडीटीवी का शेयर 4.94 प्रतिशत के लाभ से ऊपरी सर्किट सीमा 53.10 रुपए पर पहुंच गया। एनएसई में यह 4.96 प्रतिशत के लाभ से 52.85 रुपए पर बंद हुआ।        

अस्थायी आंकड़ों के अनुसार विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों ने कल शुद्ध रूप से 1,204.95 करोड़ रुपए के शेयर बेचे।

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
biggest fall in sensex amid korea tension

-Tags:#North Korea#Donald Trump#Bombay Stock Exchange#Fall In Sensex#NSE
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo