Breaking News
भारतीय क्रिकेटर मोहम्मद शम्मी के खिलाफ पति से विवाद मामले में कोर्ट ने जारी किया समनएयरफोर्स का MiG-21 क्रैश, पायलट लापता, करीब एक घंटे से जारी खोजबीनCM नीतीश कुमार ने बिहार में किन्नरों को सुरक्षा गार्ड बनाने को लेकर की बैठकपीएम मोदी पहुंचे संसद भवन, कहा- देशहित में बहस जरूरी, सार्थक बहस करे विपक्षशशि थरूर ने हिंदू 'पाकिस्तान राष्ट्र' के बाद 'हिंदू तालिबान' को लेकर दिया विवादित बयानकर्नाटकः बस स्टैंड में लड़कियों को छेड़ रहे थे, पुलिस ने 6 मनचलों को किया गिरफ्तारकेरलः भारी बारिश के कारण प्राइवेट और सरकारी स्कूल को बंद करने का निर्देशग्रेटर नोएडा हादसा: 6 मंजिला इमारत गिरने से अब तक 3 लोगों की मौत, NDRF की टीम पहुंची
Top

रिपोर्ट में खुलासा, युद्ध हुआ तो भारतीय वायु सेना के सामने नहीं टिक पाएगी चीनी सेना

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Aug 9 2017 7:27PM IST
रिपोर्ट में खुलासा, युद्ध हुआ तो भारतीय वायु सेना के सामने नहीं टिक पाएगी चीनी सेना

भारत और चीन में पिछले कई दिनों से डोकलाम घाटी सीमा विवाद जारी है। विवाद के बीच चीन कई बार सेना को पीछे हटाने को लेकर चेतावनी भी दे चुका है।

चीनी सरकार के साथ-साथ चीनी मीडिया भी भारत को 1962 के युद्ध को याद रखने कि नसीहतें देता रहा है। चीन भारत को अपनी सेना की ताकत के बारे में भारत को बार-बार धमकी देता है। 

लेकिन भारतीय सेना द्वरा किए गए एक सर्वे में ये बात सामने आई है कि डोकलाम क्षेत्र में भारतीय वायु सेना की स्थिति बहुत मजबूत है।

इसे भी पढ़ें- भूटान ने डोकलाम पर चीन का अधिकार माना: ड्रेगन

हालांकि सर्वे के ये दस्तावेज अभी तक कहीं प्रकशित नहीं हुए है। “द ड्रैगन क्लॉज: असेसिंग चीन पीएलएएएफ टुडे” नामक इस सर्वे के दस्तावेजों की एक प्रति एक न्यूज़ चैनल के पास होने का दावा किया जा रहा है।  

इन डाक्यूमेंट में भारत और चीन की वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) के नजदीक दोनों देशों की वायु सेना की ताकत का आंकलन किया गया है। ये विश्लेषण तिब्बत के अधिकार वाले क्षेत्र में किया गया है।   

इसे भी पढ़ें- चीन ने दी भारत को धमकी, कहा- हम भी कश्मीर या उत्तराखंड में घुस जाएंगे!

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक चीनी सेना के बारे में ये विश्लेषण भारतीय वायु सेना के स्क्वाड्रन लीडर समीर जोशी ने किया है। 

समीर जोशी लड़ाकू विमान मिराज 2000 के पायलट भी रह चुके हैं। जोशी ने दोनों देशों में सीमा पर जारी गतिरोध के बीच ये आंकलन किया है। 

जोशी ने अपने आंकलन में लिखा कि संख्या बल में अधिक होने के बाद भी भौगोलिक, तकनीकी और प्रशिक्षण स्तर के कारण भारतीय वायु सेना चीन पर भारी रहेगी।  

ADS

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
assessing china plaaf today revealed indian air force is very strong in doklam area

-Tags:#Indo China Dispute#Doklam dispute#India China War#Indian Army

ADS

ADS

मुख्य खबरें

ADS

ADS

ADS

ADS

Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo