Breaking News
Top

युद्धाभ्यास 2017: जापान के बाद अब IND-US में युद्धाभ्यास की तैयारी

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Aug 8 2017 1:36PM IST
युद्धाभ्यास 2017: जापान के बाद अब IND-US में युद्धाभ्यास की तैयारी

पिछले महीने बंगाल की खाड़ी में जापान के साथ बड़े पैमाने पर मालाबार ने नौसेना एक्सरसाइज किया था। जिसने चीन को क्रॉस-हेयर में मजबूती से स्थापित किया था। भारत और अमेरिका सितंबर में अपनी सेनाओं के बीच युद्धाभ्यास का आयोजन करेंगे।

यह युद्धाभ्यास 2017, अमेरिका में संयुक्त बेस लुईस-मैककॉर्ड पर 14-27 सितंबर से आयोजित किया जाएगा। इसमें गोरखा राइफल्स के 200 से अधिक भारतीय सैनिक सेना अभ्यास में हिस्सा लेंगे।

युद्ध अभ्यास श्रृंखला में यह अभ्यास 13 वां होगा, जो यू.एस. सेना प्रशांत साझेदारी कार्यक्रम के तहत वर्ष 2004 में शुरू हुआ था। इसमें अमेरिकी सेना के लगभग 225 कर्मियों और भारतीय सेना की इसी ताकत की भागीदारी थी।

इसे भी पढ़ें: चीनी सेना की भारत को गीदड़ भभकी, कहा- डोकलाम से पीछे हटो

भारत और अमेरिका अपने रणनीतिक साझेदारी और अभिसरण के भाग के रूप में अपने द्विपक्षीय सैन्य अभ्यासों की गुंजाइश, जटिलता और आवृत्ति को लगातार बढ़ा रहे हैं।

भले ही भारत अभी एशिया-प्रशांत क्षेत्र में चीन की आक्रामकता और विस्तारवाद का मुकाबला करने के लिए किसी औपचारिक सुरक्षा में शामिल होने के लिए तैयार नहीं है। पर इस तरह के अभ्यास को जारी रखा जा रहा है। बता दें कि डोकलाम सीमा विवाद को लेकर फिलहाल भारत और चीन में तनाव चरम पर है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने जून में ही भारत-अमेरिका रणनीतिक संबंधों को और मजबूत करने की कसम खाई थी. एक सीनियर अफसर ने कहा कि निश्चित रूप से कुछ आशंकाएं थीं, लेकिन द्विपक्षी रक्षा और सुरक्षा सहयोग को ऊपर की ओर बढ़ाने के लिए कई बुनियादी बातें हैं।

बता दें कि ये युद्ध अभ्यास युनाइटेड बेस लुईस-मैककॉर्ड में 14 सितंबर से 27 सितंबर तक अमेरिका में आयोजित युद्ध अभ्यास कार्यक्रम को अंतिम रूप दिया जाएगा। और इस युद्ध अभ्यास में गोरखा राइफल्स के 200 से अधिक भारतीय सैनिक युद्ध अभ्यास के तहत "बटालियन स्तर के क्षेत्रीय प्रशिक्षण अभ्यास में भाग लेंगे।

इसे भी पढ़ें: चीन का ऐलान: 19 अगस्त को करेंगे भारत पर हमला

दोनों देशों को और अधिक जटिल, संयुक्त हथियार, डिविजन लेवल एक्सेसाइज को अपग्रेड करना है और इसी पर फोकस होगा। एक अधिकारी ने कहा, इस अभ्यास से बटालियन और कंपनी स्तर पर दोनों सेनाओं के बीच आंतरिक क्षमता बढ़ जाएगी। इससे भारतीय सेना सिद्धांतों, युद्ध के अभ्यास और यूएस सेना की प्रक्रियाओं को समझने में भी मदद करेगी।

 
(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
after malabar india america gear up for september military drill

-Tags:#America#India#Malabar#Maneuvers
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo