Breaking News
Top

भोपाल गैंगरेप: 24 घंटे में कई बार बदली गई गैंगरेप की मेडिकल रिपोर्ट, पहले बताया सहमति से हुआ सेक्स, अब सफाई

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Nov 10 2017 5:03AM IST
भोपाल गैंगरेप: 24 घंटे में कई बार बदली गई गैंगरेप की मेडिकल रिपोर्ट, पहले बताया सहमति से हुआ सेक्स, अब सफाई

राजधानी में यूपीएससी की तैयारी कर रही छात्रा से गैंगरेप मामले में पुलिस ही नहीं डॉक्टरों का भी शर्मनाक रवैया सामने आया है। पुलिस के तो 10 अधिकारी इस मामले में नप गए हैं पर डॉक्टरों को अभी सिर्फ नोटिस देकर जवाब-तलब किया गया है।

यह भी पढ़ें- वैश्विक बाजारों के लिए युवाओं को कुशल बनाने की जरूरत: जेटली

ये दो महिला डॉक्टर हैं, जिन्होंने गैंगरेप पीड़िता की मेडिकल रिपोर्ट एक पुलिस अफसर की आपत्ति के बाद 24 घंटे में बदल दी। पहली महिला डॉक्टर ने गैंगरेप को सहमति से सेक्स बताया था। इस पर बवाल होते ही रिपोर्ट बदल दी गई और उसमें गैंगरेप की पुष्टि कर दी गई।

सुल्तानिया अस्पताल गलती करने वाली डॉक्टरों को अब ट्रेनिंग देने की बात कह रहा है, लेकिन ये नहीं बता पा रहा कि डॉक्टर नतीजे पर कहीं टू फिंगर टेस्ट से तो नहीं पहुंचे, जिसे अवैज्ञानिक और अमानवीय करार दिया जा चुका है।

यह भी पढ़ें- रोहिंग्या जैसी हालत हो गई है तमिल के लोगों की, श्रीलंका के सैनिक कोठरी मे कैद करके करते हैं शोषण

चिकित्सा शिक्षा मंत्री शरद जैन ने कहा है कि इस मामले में दो भी दोषी होगा, उसे बख्शा नहीं जाएगा। कांग्रेस ने चारों महिला डॉक्टरों की डिग्री रद्द करने की मांग की है और गृहमंत्री भूपेंद्र सिंह से इस्तीफा मांगा है।

पीड़िता की पहली मेडिकल रिपोर्ट में सुल्तानिया अस्पताल की डॉक्टर खुशबू गजभिए ने इसे रेप नहीं बल्कि सहमति से बने संबंध बताया था। वहीं दूसरी रिपोर्ट में 3 घंटे में 6 बार रेप होना बताया गया।

जब दूसरी बार मेडिकल हुआ तो उसमें गैंगरेप लिखा गया। यह भी बताया गया कि 4 अलग अलग लोगों ने संबंध बनाए हैं। अब सवाल यह उठाया है कि पहली रिपोर्ट सही थी या फिर दूसरी? और अब क्या तीसरी मेडिकल रिपोर्ट भी बनाई जाएगी?

डॉक्टर खुशबू का दावा है कि उन्होंने विवरण में कुछ शब्द गलत लिख दिए थे। जिसे पढ़ने के बाद जीआरपी थाने के टीआई हेमंत श्रीवास्तव का फोन आया था। उन्होंने शब्दों पर न्यायालय की तरफ से आपत्ति लेने की जानकारी दी थी। डॉक्टर खुशबू ने माना है कि यह गलती उससे भूलवश हुई थी।

यह भी पढ़ें- अब इन ग्राहकों को घर बैठे मिलेगी बैंकिग सुविधा

खुशबू ने बताया कि 1 तारीख की रात को पीड़ित छात्रा उसके पास आई थी। उस वक्त मेरे पास बहुत सारे मरीज थे। इस कारण ज्यादा गंभीरता से मामले को समझ नहीं सकी।

उन्होंने कहा मैंने इससे पहले भी चार-पांच ज्यादती के मामलों की रिपोर्ट बनाई है। डॉक्टर खुशबू सुल्तानिया जनाना अस्पताल में आरएमओ है। उनके साथ ड्यूटी में उस वक्त डॉक्टर श्रेया भी थी। दूसरी रिपोर्ट डॉक्टर श्रद्धा ने बनाई थी।

इधर, गैंगरेप पीड़िता के परिजनों ने बताया कि उसका एक ही बार मेडिकल परीक्षण हुआ था। यह परीक्षण करते वक्त जब डॉक्टर रिपोर्ट बना रही थी तो उसे कई शब्द सूझ नहीं रहे थे। इस कारण कई जगह पीड़ित छात्रा ने ही उसे शब्द बताए थे। यह जानकारी पीड़ित परिवार की तरफ से दी गई है।

संभागायुक्त ने भेजा चारों डॉक्टरों को नोटिस

संभाग आयुक्त अजातशत्रु श्रीवास्तव ने इस मामले में चार महिला डॉक्टरों डॉ. खुशबू, डॉ. श्रद्धा, इंचार्ज डॉ. अर्पणा पाठक, डॉ. संयुक्ता पोरवाल को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है। नोटिस में पूछा गया है कि ऐसी गंभीर लापरवाही कैसे हुई? इसका जिम्मेदार कौन है?

रिपोर्ट नहीं, कुछ शब्द ही बदले हैं

सुल्तानिया अस्पताल के अधीक्षक डॉ. किरण पीपरे ने कहा पीड़िता की मेडिकल रिपोर्ट में कोई बदलाव नहीं किया गया है।

कभी-कभी डॉक्टर की लिखावट में कोई चीज जब समझ में नहीं आती है तो चिकित्सक उसमें सुधार करता है। इस मामले में भी ऐसा ही हुआ है। मैंने कोई जांच समिति नहीं बनाई है। इसका अधिकार डीन को है। अब नए डॉक्टरों को मेडिकल की ट्रेनिंग दी जाएगी। सर्कुलर जारी हो गए हैं।

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
bhopal gangrape sultania lady hospital on medical report says victim indulged in consensual sex with culprits

-Tags:#Bhopal#Madhya Pradesh#Gangrepe#Schoolgirl#Crime News
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo