Breaking News
Top

IIT रूड़की ने खोजी चिकनगुनिया की दवा, ऐसे करती है काम

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Oct 7 2017 3:20AM IST
IIT  रूड़की ने खोजी चिकनगुनिया की दवा, ऐसे करती है काम

आईआईटी रूड़की के वैज्ञानिकों ने पाया है कि पेट के कीड़े मारने के लिए सामान्य तौर पर ली जाने वाली एक दवा में एंटीवायरल गुण हैं और यह मच्छरों से फैलने वाले रोग चिकनगुनिया के इलाज में काम आ सकती है। 

वर्तमान में चिकनगुनिया के इलाज के लिए कोई टीका या एंटीवायरल दवा उपलब्ध नहीं है। इसके इलाज के तहत इसके संक्रमण से जुड़े लक्षणों में राहत पर जोर रहता है।        

इसे भी पढ़ें- तेजपान के ऐसे है फायदे जानकर रह जाएंगे हैरान

उत्तराखंड के रूड़की स्थित आईआईटी प्रोफेसर शैली तोमर ने कहा कि हमारे अनुसंधान में यह बात सामने आयी है कि बाजार में उपलब्ध एक दवा पिपराजीन प्रयोगशाला परिस्थितियों में चिकनगुनिया के वायरस को फैलने से रोकने में सफल रही।       

तोमर ने कहा कि हम वर्तमान में मॉलीक्यूल का जानवरों पर परीक्षण कर रहे हैं और उम्मीद करते हैं कि जल्द ही इसका क्लीनिकल ट्रायल शुरू होगा। 

पिपराजिन दवा राउंडवार्म और पिनवार्म के खिलाफ इलाज में सामान्य तौर पर ली जाती है।यह अध्ययन जर्नल ‘एंटीवायरल रिसर्च' में छपा है।

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
iit roorkee discovered chikungunya medicine

-Tags:#IIT Roorkee#Chikungunya Treatment
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo