Breaking News
Top

छोटी इलायची खाने से ये बीमारियां होती हैं दूर, ऐसे करे इस्तेमाल

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Jul 26 2017 2:25AM IST
छोटी इलायची खाने से ये बीमारियां होती हैं दूर, ऐसे करे इस्तेमाल

इलायची हर भारतीय घर की रसोई का अहम हिस्सा है। आम तौर पर मसालों की तरह इस्तेमाल में आने वाली इलायची, मुखवास के तौर पर भी भरपूर उपयोग में लायी जाती है।

इलायची का वानस्पतिक नाम एलाट्टारिया कार्डोमोमम है। वैसे तो इलायची को व्यंजनों में सुगंधदायक मसाले के तौर उपयोग में लाया जाता है लेकिन आदिवासी इसको भी औषधीय गुणों से भरपूर मानते हैं और अनेक नुस्खों में इसे इस्तमाल भी करते हैं। चलिए जानते हैं इससे जुड़े आदिवासी हर्बल नुस्खों के बारे में।

पातालकोट के आदिवासी सफेद मूसली की जड़ों के चूर्ण के साथ इलायची मिलाकर दूध में उबालते हैं और पेशाब में जलन की शिकायत होने पर रोगियों को दिन में दो बार पीने की सलाह देते हैं। इन आदिवासियों के अनुसार इलायची शांत प्रकृति की होती है और ठंडक देती है।

इसे भी पढ़ें- ब्लैक कलर का फैशन कभी नहीं होता आउट

पान के पत्ते में इलायची के दाने मिलाकर खाने से सर चकराना, घबराहट और जी मिचलाना जैसी शिकायतों में आराम मिलता है। उल्टी होने के बाद दो चार दाने इलायची के चबाने से मुँह का स्वाद बदलता है और राहत भी मिल जाती है।

पातालकोट में आदिवासी हर्रा के बीजों का चूर्ण (1 चम्मच), एक या दो इलायची का चूर्ण और थोड़ी सी अजवायन मिलाकर अपचन की समस्या होने पर रोगियों को देते है। यह नुस्खा पाचन प्रक्रिया का सुचारू करता है।

शहद में एक ग्राम इलायची का चूर्ण, स्वादानुसार काला नमक, घी और एक लौंग को कुचलकर मिला लिया जाए और थोड़े- थोड़े अंतराल से चाटा जाए तो बरसात और ठंड में होने वाली खांसी में तेजी से राहत मिलती है।

आदिवासियों के अनुसार शारीरिक कमजोरी दूर करने के लिए काली मूसली (5-10 ग्राम), बादाम (एक या दो), चिरौंजी के दाने (2 ग्राम) और तीन इलायची को मिलाकर कुचल लिया जाए और रोज रात सोने से पहले खाया जाए तो समस्या का समाधान आहिस्ता-आहिस्ता होने लगता है।

जिन्हें ज्यादा पेशाब होने की शिकायत होती है उन्हें विदारीकंद, लौंग और इलायची की समान मात्रा लेकर दिन में तीन बार चबाना चाहिए, माना जाता है कि पेशाब होने की प्रक्रिया को नियंत्रित करता है।

इसे भी पढ़ें- हल्दी का पानी पीने के ये हैं 5 चमत्कारी लाभ

पेशाब से जुड़ी अनेक समस्याओं में राहत के लिए डांग-गुजरात के आदिवासी मीठी नीम की जड़ों का रस तैयार करते हैं। रस की 20 ग्राम मात्रा में दो चुटकी इलायची दानों का चूर्ण मिलाकर रोगियों को देते हैं, तेजी से आराम मिल जाता है।

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
health benefits of cardamom in hindi news

-Tags:#Health News#Small Cardamom
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo