Hari Bhoomi Logo
गुरुवार, सितम्बर 21, 2017  
Breaking News
Top

J&K: भर्ती कम ढेर ज्यादा हुए आतंकी, सेना ने अबतक 132 को पहुंचाया जहन्नुम

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Aug 21 2017 10:10AM IST
J&K: भर्ती कम ढेर ज्यादा हुए आतंकी, सेना ने अबतक 132 को पहुंचाया जहन्नुम

जम्मू कश्मीर में सेना ने इस साल करीब 132 आतंकियों का सफाया किया। इससे यह बात समने आई कि जितने आतंकियों की इस बार भर्ती हुई उससे ज्यादा को सेना ने मार गिराया। इस साल करीब 71 युवक आतंकवादी कैंपों में भर्ती हुए वहीं 78 सीमापार से घाटी में आए।

 
आंकड़ों के अनुसार जुलाई 2016 में 123 आतंकी सीमापार से कश्मीर में आए। इंटेलिजेंस सूत्रों ने बताया कि सेना ने इस वर्ष 132 आतंकियों को मार गिराया। सेना ने सुरक्षा एजेंसियों के साथ मिलकर 74 विदेशी और 58 स्थानीय आतंकियों को मार गिराया।
 
 
सेना द्वारा मारे गए आतंकियों में 14 लश्कर, हिज्बुल मुजाहिद्दीन और अल बद्रर के थे। इन आतंकियों में दो A++, चार A+ और आठ A कैटेगिरी के शामिल हैं। बुरहान वानी की मौत के बाद सेना और सुरक्षा एजेंसियों ने जाकिर मूसा को ढूंढने में लग गए। वानी को सेना ने 8 जुलाई को मार गिराया।
 
8 अगस्त को दक्षिण कश्मीर के पुलवामा के त्राल क्षेत्र में सुरक्षा बलों और आतंकियों के बीच चली मुठभेड़ में सेना को बड़ी सफलता मिली। सुरक्षा बलों ने तीन आतंकियों को मार गिराया था जो कि मूसा के आतंकी संगठन अंसार गजवत हिंद के थे।
 
 
हिजबुल के पूर्व कमांडर मूसा ने गजवत-उल-हिंद रखा नाम का संगठन शुरू किया। मूसा का अल कायदा से खासा लगाव है और उसने हमेशा जिहाद और शरीयत को बढ़ावा दिया है।
मूसा ने अल कायदा के नेटवर्क से 'फाउंडेशन ऑफ न्यू मूवमेंट ऑफ जिहाद इन कश्मीर' के नाम से जारी किए बयान में बुरहान को शहीद बताया है।
 
बयान में उसने कहा कि अब कश्मीर में जिहाद जगाने का वक्त आ गया है। उसने कहा कि कश्मीर में मुस्लिमों को जिहाद का झंडा उठाना चाहिए जिससे वो भारतीय सैनिकों के अत्याचार को खत्म कर सके। उसने यह भी कहा कि केवल जिहाद और अल्लाह ही अपने कश्मीर को स्वतंत्र बना सकते हैं।
 
(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
indian army killed 132 terrorist till now

-Tags:#Indian Army#Zakir Musa#Al Qiada
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo