Breaking News
Top

जेल में हो सकती है विनोद वर्मा की हत्या: पीसीसी चीफ

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Nov 1 2017 12:31AM IST
जेल में हो सकती है विनोद वर्मा की हत्या: पीसीसी चीफ

सीडी कांड के मामले में गाजियाबाद से गिरफ्तार पत्रकार विनोद वर्मा की सुरक्षा को लेकर एक बार फिर पीसीसी चीफ ने सवाल उठाए हैं। उन्होंने जेल में विनोद वर्मा को खाने में जहर मिलाकर देने की आशंका जताई है।

मंगलवार को कांग्रेस भवन में मीडिया से बातचीत में कहा, पत्रकार विनोद वर्मा की गिरफ्तारी पूरी तरह षड़यंत्र के तहत हुई है। पूरे प्रकरण में पुलिस की कार्रवाई संदेह की घेरे में है।

यह भी पढ़ें- आज से लागू होगी रेलवे की समय सारिणी, 51 एक्सप्रेस और 36 पैसेंजर ट्रेनों की गति हुई तेज

जिस ढंग से प्रकाश बजाज द्वारा लिखाई गई रिपोर्ट के बाद पुलिस तत्काल दिल्ली पहुंची। सामग्री जब्त कर सड़क मार्ग से पत्रकार को लाने के दौरान प्रताड़ित किया गया, उससे पुलिस की कार्यप्रणाली संदिग्ध नजर आती है।

उन्होंने कहा, इस षड़यंत्रकारी सरकार में कुछ भी किया जाना संभव है, इसलिए हमारी मांग है कि विनोद वर्मा की जान की समूची सुरक्षा सुनिश्चित की जाए। जेल में भी उन्हें सुरक्षा मुहैया कराई जाए। पीसीसी चीफ ने सीडी की वास्तविकता को लेकर भी सवाल उठाए।

उन्होंने कहा, एक तरफ तो सरकार सीडी को फर्जी ठहराने में जुटी है, दूसरी ओर सीबीआई जांच कराने का निर्णय भी लिया जाता है। सरकार का दोहरा चरित्र कई संदेहों को जन्म देता है।

यह भी पढ़ें- मानहानि केस: हाइकोर्ट ने केजरीवाल को लगाई फटकार, जेटली के खिलाफ मांगे थे दस्तावेज

पूरे षडयंत्र में सरकार और भाजपा के बड़े लोगों के शामिल होने की आशंका है। जिस तरह झीरम घाटी में कांग्रेस का साथ देने की वजह से दिनेश पटेल को निशाना बनाया गया, उसी तरह विनोद वर्मा को भी षडयंत्र का शिकार बनाया जा सकता है।

एक साल से सीडी

पीसीसी चीफ ने सीडी के संबंध में कहा, कथित वीडियो क्लिप पूरे एक माह से सोशल मीडिया में वायरल है। सुनने में आ रहा है, यह एक साल से बनकर बाजार में उपलब्ध है।

इस घटना के षड़यंत्र में राज्य सरकार और भाजपा पूरी तरह संलिप्त है। सब कुछ भाजपा के शीर्ष नेतृत्व के इशारे पर हो रहा है। विनोद वर्मा की जल्दबाजी में गिरफ्तारी भी इसी षडयंत्र का हिस्सा है।

जल्द खुलासे का दावा

पीसीसी चीफ ने सीडीकांड में जल्द ही कई बड़े खुलासों का दावा किया है। उन्होंने कहा, पुलिस और सरकार को डर है कि अंतागढ़ टेपकांड और झीरम कांड से संबंधित महत्वपूर्ण दस्तावेज विनोद वर्मा के पास हैं।

इसी आशंका के चलते आनन फानन में सरकार और भाजपा के कुछ तथाकथित लोगों द्वारा कूटरचना की गई। जल्द ही इस मामले में मीडिया के सामने कुछ तथ्य रखे जाएंगे।

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
journalist vinod verma murder may take place in jail

-Tags:#Chhattisgarh#Raipur News#Journalist Vinod Verm#Crime News
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo