Hari Bhoomi Logo
रविवार, अप्रैल 30, 2017  
Breaking News
Top

झीरमघाटी में माओवादियों ने किया आत्‍मसमर्पण, कांगेसी नेताओं पर हमले का आरोप

haribhoomi.com | UPDATED Aug 26 2014 7:17AM IST
बस्तर. झीरम घाटी में कांग्रेसी नेताओं पर हुए नक्सली हमले में शामिल माओवादी नेता चैतराम सलाम उसकी पत्नी मंगला व राजनांदगाव दलम की रजनी ने सोमवार को नारायणपुर पुलिस के सामने आत्मसमर्पण कर दिया। पुलिस ने बताया कि चैतराम सेंट्रल रिजनल कमेटी में नारायणपुर सेक्शन कमांडेंट है। झीरम घाटी की वारदात में वह अग्रिम पंक्ति में शामिल था। उसकी पत्नी मंगला हमले के दौरान माओवादियों के लिए भोजन बनाने वाले दल में शामिल थी। घटनास्थल से करीब दो घंटे की दूरी पर बेंगपाल में माओवादियों के लिए भोजन तैयार किया गया था।
 
बताते चले की 25 मई 2013 को कांग्रेसी नेता महेंद्र कर्मा के साथ  36 लोगों की हत्या कर दी थी । पुलिस ने बताया कि एनआईए की अब तक की जांच में झीरम घाटी वारदात के पीछे माओवादी नेता देवजी के होने की बात सामने आ रही है। साउथ रिजनल कमेटी में सीसीएम देवजी के प्लान पर ही हमले को अंजाम दिया गया है।
 
प्लानिंग में माओवादी नेता गणेश उइके, जयलाल व जयदेव भी प्रमुख तौर पर शामिल थे। हमले को अंजाम तक पहुंचाने का जिम्मा जयदेव, विनोद, देवा, श्याम व सुरेन्द्र पर था। हमले के दौरान यह सभी झीरम में मौजूद थे। आईजी के मुताबिक हमले का मास्टर प्लान दो माह पहले बना लिया गया था। मार्च 2013 में बीजापुर जिले के डोंडीतुमनार में बड़े माओवादी नेताओं की बैठक में पुरी साजिश रची गई। इसी बैठक में वारदात में माओवादी नेताओं की जिम्मेदारी भी तय कर दी गई 

नीचे की स्लाइड्स में पढ़िए, नक्सलियों ने लूटा जवानों का राशन ;-

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि और हमें फॉलो करें ट्विटर पर- 
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo