Breaking News
Top

नोटबंदी: धान बिक्री का चेक नहीं हो रहा कैश, किसान परेशान

haribhoomi.com | UPDATED Feb 16 2017 10:17AM IST
रायपुर. छत्तीसगढ़ के रायपुर में मंडी में बेचे गए धान की कीमत के बदले किसानों को मिला चेक दो माह बीतने के बाद भी कैश नहीं हो पा रहा। नया रायपुर के कई गांव के किसान इस समस्या से जूझ रहे हैं और खाते में रकम नहीं आने के कारण अपनी कई आवश्यकतों की पूर्ति नहीं कर पा रहे। किसानों का आरोप है कि खाते में रकम नहीं आने के बारे में पूछताछ में बैंक से किसी भी प्रकार की सही जानकारी नहीं मिल पा रही है।
 
 
बैंक में दिसंबर में चेक जमा करने के बाद अब तक खाते में धान बिक्री की रकम नहीं आने से परेशान अधिकतर किसानों ने ग्राम कठिया की सोसाइटी में अपने धान की बिक्री की थी और जिला सहकारी बैंक की शाखा नयापारा से उन्हें धान की रकम का चेक जारी किया गया था। नया रायपुर में आने वाले आधा दर्जन गांव के किसानों ने अपना चेक ग्राम निमोरा के यूनियन बैंक में दिसंबर में जमा किया, लेकिन चेक का कैश नहीं हो पाया।
 
उनके खातों में अब तक धान बिक्री की रकम नहीं पहुंच पाई। सही समय पर किसानों के खाते में धान बिक्री की रकम जमा नहीं होने के कारण उन्हें काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा और अपनी आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए उन्हें उधार तक लेना पड़ रहा है। ऐसे ही 4 मामले निकलकर सामने आए हैं।
 
केस-1
ग्राम चेरिया में रहने वाली महिला सहोदरा बाई तारक ने धान बिक्री के बदले 14 हजार रुपए का चेक निमोरा के यूनियन बैंक में जमा कराया था। 29 दिसंबर को जमा किए गए चेक का भुगतान अब तक उसके खाते में नहीं आया।
 
केस-2
ग्राम बंजारी के रामखिलावन ध्रुव ने 20 दिसंबर को यूनियन बैंक में अपना 97 हजार रुपए का चेक लगाया था। पारिवारिक आ‌वश्यकता के लिए रुपए निकालने वह बैंक के चक्कर काटता रहा, लेकिन खाते में रकम ही नहीं आई।
 
केस-3
ग्राम चेरिया में रहने वाले कृष्णा विश्वकर्मा ने भी बैंक में कैश के लिए अपना 23 हजार का चेक लगाया था। चेक का अब तक कैश नहीं हो पाया और खाते में रकम नहीं आ पाई।
 
 
देर से आ रहा डीडी (डिमांड ड्राफ्ट)
विशाखा वर्मा, प्रबंधक, यूनियन बैंक निमोरा ने बताया, किसानों को भुगतान के लिए सहकारी बैंक का डीडी काफी देर से पहुंच रहा है। इसके कारण धान बिक्री की रकम किसानों के खाते में जमा नहीं हो पा रही। डीडी मिलने पर तत्काल रकम किसानों के खाते में ट्रांसफर की जा रही है।
 
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo