Hari Bhoomi Logo
रविवार, सितम्बर 24, 2017  
Breaking News
बीएचयू कैंपस के अंदर पहुंची पुलिस, छात्रों का हंगामा हुआ तेजबीएचयू: छात्र प्रदर्शन के दौरान कांग्रेस नेता पी.एल पुनिया, राज बब्बर और अजय राय को पुलिस ने रोकादिल्ली तक पहुंची बीएचयू की आग, यूथ कांग्रेस ने जमकर किया प्रदर्शनदिल्ली तक पहुंची बीएचयू की आग, यूथ कांग्रेस ने जमकर किया प्रदर्शनप्रद्युम्न मर्डर केस: आरोपी ड्राइवर अशोक को 14 दिनों की न्यायिक हिरासतलखनऊ: सोमवार सुबह 11 बजे मुलायम सिंह यादव करेंगे प्रेस कॉन्फ्रेंसबीएचयू: छात्राओं ने किया छेड़खानी का विरोध, पुलिस ने बरसाई लाठियांजम्मू-कश्मीर के बारामूला स्थित उड़ी सेक्टर में रात से ही सेना और आतंकियों के बीच मुठभेड़ जारी है
Top

हरिभूमि की खबर का असर, सच निकली AIIMS में दवाइयों की लूट, होगी कार्रवाई

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Aug 18 2017 11:23AM IST
हरिभूमि की खबर का असर, सच निकली AIIMS में दवाइयों की लूट, होगी कार्रवाई

 आखिर हरिभूमि की खबर सच साबित हुई। रायपुर एम्स प्रबंधन ने जांच में पाया कि 65 फीसदी छूट देकर भी दवाओं की कीमत में भारी गोलमाल किया जा रहा था।

ये भी पढ़ें- सरकार की जांच में खुलासा :ये है प्लास्टिक चावल का सच

एमआरपी कई गुना बढ़ाकर प्रिंट की गई और दवा कंपनियों से कई गुना ज्यादा रेट रखे गए। उसके आधार पर अब एम्स ने बड़ी कार्रवाई की है। दवा विक्रय करने वाली एजेंसी की लाइसेंस अवधि न बढ़ाने और दुकान खाली करने का नोटिस जारी किया गया है।

उल्लेखनीय एम्स में सीमा एजेंसी दवा विक्रय कर रही है। एम्स प्रबंधन ने दवाओं में 65 फीसदी छूट देने का करार किया था। हरिभूमि काे शिकायत मिली कि 65 फीसदी छूट के बाद भी एम्स की दवाएं खुले बाजार से महंगी पड़ रही हैं।
 
प्रारंभिक जांच में पाया कि कि सीमा एजेंसी प्रिंट रेट पर 65 फीसदी छूट दे रही है। लेकिन जब बाजार में उन्हीं दवाओं के दाम पता किए गए तो वे एम्स से ज्यादा निकले।

एमआरपी के नाम पर बड़ा खेल

जांच में पाया गया कि सीमा एजेंसी पहले से ही दवाओं पर कई गुना एमआरपी अंकित कर देती थी। उसके बाद उन्हें 65 फीसदी छूट दिखाकर बेच रही थी। यानी दिखावे की छूट देकर मरीजों को लूटा जा रहा था। एम्स ने खबर प्रकाशित होने के बाद जांच कमेटी बनाई।
 
 
जांच में संबंधित कंपनियों से एमआरपी मंगाई गई। पाया गया कि दोनों में भारी अंतर है। उसके बाद एम्स प्रशासन ने सीमा एजेंसी के संचालन पर प्रतिबंध लगा दिया है। अब एम्स हॉस्पिटल में सीमा एजेंसी की जगह जन औषधी केंद्र खोला जाएगा। इसके लिए सरकार से अनुमति मिल गई है।

एम्स चाहता है मरीजों का लाभ

एम्स प्रबंधन की नीयत मरीजों को सस्ता इलाज देने की है। गरीब मरीजों को इलाज के लिए बाजार से सस्ते दाम पर दवाएं मुहैया कराने के लिए एम्स प्रशासन ने सीमा एजेंसी से एग्रीमेंट किया था।
 
बेहतर कार्य होने पर एग्रीमेंट की अवधि बढ़ाया जाना था। एम्स प्रशासन का कहना है कि सीमा एजेंसी द्वारा दोनों शर्तों का उल्लंघन किया गया है। प्रतिबंध इसलिए लगाया गया।
 
इस मामले में एम्स हॉस्पिटल डिप्टी डायरेक्टर, के एन शर्मा का कहना है कि सीमा एजेंसी की दवाओं की जांच में एमआरपी रेट में गड़बड़ी मिली है। साथ ही लगातार शिकायतें मिल रही थीं, इसलिए उनका लाइसेंस नवीनीकरण पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। नोटिस जारी कर अक्टूबर तक दुकान खाली करने को कहा गया है।
(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
aims hospital medicine case truth in raipur

-Tags:#Chhattisgarh#Aims Hospital#Raipur News
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo