Hari Bhoomi Logo
गुरुवार, सितम्बर 21, 2017  
Breaking News
Top

अगर UPSC मे पानी है सफलता तो चुने ये विषय

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Aug 17 2017 11:59AM IST
अगर UPSC मे पानी है सफलता तो चुने ये विषय

भारत के सबसे कठिन यूनियन पब्लिक सर्विस कमिशन की परीक्षा की तैयारी करने वालों के लिए सबसे कठिन सवाल यही होता है कि परीक्षा में बैठने के लिए किन विषयों का चयन करें। इस सवाल का जवाब यूपीएससी की एक सालाना रिपोर्ट ने दिया है। यूपीएससी ने 2010 से 2015 के बीच सफल विद्यार्थियों की ओर से चुने गए विषय के ट्रेंड की स्टडी करते हुए एक रिपोर्ट जारी की है।

 
रिपोर्ट से ये बात सामने आई है कि भूगोल सबसे सफल विषय है। इस विषय का चयन करने वाले लोग सबसे ज्यादा सफल हुए हैं। इस रिपोर्ट में ये बात भी पता चली है कि 60 फीसदी सफल विद्यार्थियों का बैकग्राउंड साइंस है लेकिन 90 फीसदी ने आर्टस के विषयों को लेकर सफलता पाई है।
 
 
केंद्र सरकार अभी इस विषय पर सोच रही है कि क्या इस एक्जाम से विषयों को सिस्टम हटाकर नया सिस्टम लागू करना चाहिए। परीक्षा में सुधार लाने के लिए मोदी सरकार की ओर से गठित बसावन कमिटी ने अपनी विस्तृत रिपोर्ट में कहा था कि ऑप्शनल सब्जेक्ट हटाकर उनकी जगह प्रैक्टिकल एग्जाम पर ज्यादा फोकस किया जाए। 
 
नया सिस्टम लाने के लिए यह तर्क दिया गया था कि विषय के साथ पढ़ाई के साथ सफल होने वाले एप्लिकेंट्स के प्रशासनित और नेतृत्वसंबंधी गुणों की जानकारी नहीं होती जो इन सेवाओं की जरूरत है।
 
 
सूत्रों की माने तो सरकार इसे मानने को तैयार है लेकिन अभी कोई स्पष्ट फैसली नहीं लिया गया है।
 
ये हैं आंकड़ें
 
पिछले वर्ष सबसे ज्यादा छात्र भूगोल विषय लेकर सफल हुए थे जिनकी संख्या 255 है। 196 छात्र सोसिऑलिजी, तीसरे नंबर पर पब्लिक ऐडमिन्स्ट्रेशन रहा जिसके 151 ऐप्लिकेंट्स सफल हुए।
 
88 फीसदी विद्यार्थी आर्ट्स सब्जेक्ट से सफल हुए जबकि 64 फीसदी सफल होने वाले 64 फीसदी इंजिनियिरिंग और मेडिकल बैकग्राउंड से थे। लॉ के कुल 40 विद्यार्थी सफल हुए और हिंदी, अंग्रेजी या अन्य क्षेत्रीय भाषा के साथ स्टूडेंट के सफल होने का ट्रेंड तेजी से बढ़ा है। 
 
(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
select these subjects to get success in upsc

-Tags:#UPSC#Career News
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo