Breaking News
Top

सीवान तेजाब कांड और इसकी सच्चाई

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Sep 4 2017 10:58AM IST
सीवान तेजाब कांड और इसकी सच्चाई

सीवान तेजाब कांड के नाम से चर्चित अपहरण और हत्या की वारदात से सीवान समेत पूरा बिहार कांप उठा था। दरअसल तकरीबन 13 साल पहले 16 अगस्त 2004 को सिवान के व्यवसायी चंद्रकेश्वर प्रसाद उर्फ चंदाबाबू के दो बेटे गिरीश कुमार और सतीश कुमार उर्फ सोनू को पहले अपहरण किया गया। फिर उसके शरीर पर तेजाब डालकर निर्मम हत्या कर दी गई थी।

इसे भी पढ़ें: लालू के घोटालों-विवादों का अंतहीन सिलसिला

आपको बता दें कि शहाबुद्दीन के अड्डे प्रतापपुरा में इन दो भाइयों को तेजाब से इस कदर नहलाया गया कि कुछ ही मिनटों में उनका शरीर झुलसने लगा था। वे चिल्लाकर रहम की गुहार लगा रहे थे लेकिन वहां मौजूद लोग तमाशा देख रहे थे।

इसे भी पढ़ें:पत्रकार राजदेव रंजन हत्याकांड: CBI ने शहाबुद्दीन को बनाया मुख्य आरोपी

गौरतलब है कि इस जघण्य हत्याकांड में मोहम्मद शहाबुद्दीन के साथ-साथ राजकुमार साह, मुन्ना मियां एवं शेख असलम को भी उम्रकैद की सजा सुनाई थी। इस तेजाब हत्याकांड के गवाह और मृतकों के भाई राजीव ने अदालत को बताया था कि वारदात के समय पूर्व सांसद शहाबुद्दीन खुद वहां उपस्थित थे।

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
know about well known acid attack of bihar

-Tags:#Siwan#Acid Attack#Mohammad Shahabuddin#Bihar
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo