Breaking News
रिपोर्ट में हुआ खुलासा, कानपुर सेंट्रल ने देश के सबसे गंदे रेलवे स्टेशन में किया टॅाप, यहां देखे पूरी लिस्टकिम जोंग ने दूसरी बार दक्षिण कोरियाई राष्ट्रपति से की मुलाकात, ट्रंप के साथ 12 जून की मुलाकात संभवशर्मनाकः दिल्ली से सटे गुरुग्राम में ऑटो चालक ने अपने साथियों के साथ मिलकर गर्भवती महिला के साथ किया गैंगरेपभारतीय महिला की मौत के बाद आयरलैंड में हटा गर्भपात से बैन, सविता की मौत के बाद जनमत संग्रह से हुआ फैसलापीएम मोदी ने किया ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे का उद्घाटन14वें दिन भी बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम, दिल्ली में 78 तो मुंबई में 86 के पार पहुंचे पेट्रोल के दामनीतीश कुमारः बैंकों की लचर कार्यप्रणाली के चलते लोगों को नहीं मिला नोटबंदी का अपेक्षित लाभपीएम मोदी ने किया दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे का उद्घाटन
Top

गुजरात में महिला ने जीता एयरटेल के खिलाफ केस, नहीं मिले 50 रुपये भी

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Aug 6 2017 8:59PM IST
गुजरात में महिला ने जीता एयरटेल के खिलाफ केस, नहीं मिले 50 रुपये भी

गुजरात की रहने वाली एक महिलाने एयरटेल कंपनी के खिलाफ केस तो जीत लिया, लेकिन जीत के बाद भी उस उतने रुपये नहीं मिले जिसकी उसने सोची होगी। 

जिसके बाद अंजना ब्रह्मभट्ट ने एयरटेल से 44.50 रुपए मांग की थी। लेकिन कंपनी ने पैसे देने से इंकार कर दिया था। बाद में अंजना ने एयरटेल पर मुकदमा दायर किया और अब वह जीत गई है। 

जानकारी हो कि पाटीदार आंदोलन के दौरान अंजना का 10 दिनों तक इंटरनेट ठप था। जिसको लेकर उसने कंपनी से 8 दिन की वैलिडिटी बढाने या 44.50 रुपए वापस की मांग की थी। 

लेकिन कंपनी अंजना की एक भी नहीं सुनी। जिसके बाद उसने उपभोक्ता विवाद समाधान फोरम में केस दर्ज किया। वकील मुकेश पारीख के मुताबिक अंजना ने 5 अगस्त 2015 को 178 रुपये में 28 दिनों की वैलिडिटी के साथ 2GB का डाटा पैक लिया था। 

इसे भी पढ़ें: Motorola ने लॉन्च किया शैटरप्रूफ डिस्प्ले वाला Z2 फोर्स, जानिए फीचर्स और कीमत

हालांकि आंदोलन की वजह से शहर में 26 अगस्त से 4 सितंबर 2015 तक इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई थी। वकील मुकेश पारीख ने कहा कि अंजना ने एयरटेल से आठ दिन के लिए सर्विस बढ़ाने या 44.50 रुपये लौटाने का आग्रह किया। 

लेकिन कंपनी इसके लिए राजी नहीं हुई।वकील मुकेश पारीखने कहा कि हमने कई अखबारों में ऐड देकर बताया कि आंदोलन के वक्त इंटरनेट कट के बदले सर्विस विस्तार या पैसे वापस नहीं किए जाने की सूरत में हम मुफ्त में मुकदमा लड़ेंगे। अंजना को इसका पता चला और वह हमारे पास आई।

इसे भी पढ़ें: iPhone के इस मॉडल पर मिल रही है बंपर छूट!

अंजना ने मानसिक प्रताड़ना के लिए 10,000 रुपये और कानूनी खर्च के लिए 5,000 रुपये का दावा किया। इसके लिए कोर्ट ने कहा कि इंटरनेट सर्विस सार्वजनिक कारण से रोकी गई थी। यह कंपनी के नियंत्रण में नहीं थी। 

इस कारण मानसिक प्रताड़ना और कानूनी खर्च का मुआवजा नहीं दिया जा सकता। हालांकि कोर्ट ने कंपनी को 44.50 रुपये पर ब्याज सहित 55.18 रुपये देने का आदेश दे दिया।

 

ADS

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
women won a lawsuit against airtel got get rs 44 50

-Tags:#Airtel#Patidar agitation#Gujarat#Internet service

ADS

ADS

मुख्य खबरें

ADS

ADS

ADS

ADS

Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo