Breaking News
भारतीय क्रिकेटर मोहम्मद शम्मी के खिलाफ पति से विवाद मामले में कोर्ट ने जारी किया समनएयरफोर्स का MiG-21 क्रैश, पायलट लापता, करीब एक घंटे से जारी खोजबीनCM नीतीश कुमार ने बिहार में किन्नरों को सुरक्षा गार्ड बनाने को लेकर की बैठकपीएम मोदी पहुंचे संसद भवन, कहा- देशहित में बहस जरूरी, सार्थक बहस करे विपक्षशशि थरूर ने हिंदू 'पाकिस्तान राष्ट्र' के बाद 'हिंदू तालिबान' को लेकर दिया विवादित बयानकर्नाटकः बस स्टैंड में लड़कियों को छेड़ रहे थे, पुलिस ने 6 मनचलों को किया गिरफ्तारकेरलः भारी बारिश के कारण प्राइवेट और सरकारी स्कूल को बंद करने का निर्देशग्रेटर नोएडा हादसा: 6 मंजिला इमारत गिरने से अब तक 3 लोगों की मौत, NDRF की टीम पहुंची
Top

गजब: स्कूली लड़कों ने बनाई 'टू इन वन' ई-साइकिल, बस इतना आया खर्च

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Nov 28 2017 2:39AM IST
गजब: स्कूली लड़कों ने बनाई 'टू इन वन' ई-साइकिल, बस इतना आया खर्च

रायपुर के सलेम स्कूल के चार स्टूडेंट्स ने एक ऐसी ई-साइकिल तैयार की है, जो बाई वन गेट वन फ्री की तरह है। दरअसल यह ई-साइकिल मोटर बाइक की ही तरह चलती है। इस साइकिल को स्टूडेंट्स ने ट्वीन की संरचना में तैयार किया है। इस साइकिल को पैडल मारकर साथ ही मोटर साइकिल की तरह एक्सलेटर घुमाकर भी चलाया जा सकता है।

यह भी पढ़ें- मात्र 999 रुपये में यहां से खरीदें Lenovo K8 Plus, मिल रही है भारी छूट

2 हजार रुपए हुए खर्च

ई-साइकिल का वजन नार्मल साइकिल की ही तरह 15 किलोग्राम है। इसके अलावा हब मोटर, इलेक्ट्रॉनिक स्पीड कंट्रोलर, मोटर कंट्रोलर, वोल्टेज कन्वर्टर, ब्रेक्स आदि को फिट किया गया है। स्टूडेंट्स की टीम का नेतृत्व स्कूल के भौतिकी के टीचर सुनील मालवीय द्वारा किया गया। इसके अलावा टीम में गौरव जैन, यमन राव, शान अहमद, यासिर खान शामिल थे।

ई-साइकिल का एवरेज

यह ई-साइकिल 1 लीटर में पचास किलोमीटर चलती है। वहीं इसे 25-30 किलोमीटर की रफ्तार से लगभग 30 किमी तक चलाया जा सकता है। इसके अलावा यह साइकिल 100 किलोग्राम वजन भी उठा सकती है और इंस्टीट्यूट में इसका सफल ट्रायल लिया जा चुका है।

प्रदूषण रहित है ई-साइकिल

यह ई-साइकिल वातावरण के अनुकूल है। इस साइकिल को चलाने में प्रदूषण की भी कोई समस्या नहीं होती है। इसकी सबसे बेहतरीन खासियत यह है कि माइलेज के साथ-साथ किसी भी तरह के प्रदूषण को पैदा नहीं करती।

यह भी पढ़ें- BS-VI को लागू करने के लिए मर्सीडिज ने सरकार से मांगी मदद, जानें क्या है BS-VI

पेट्रोल खत्म होने पर पैडल से भी चलती

ई-साइकिल में ग्रास कटर इंजन में लीवर लगाकर साइकिल के टायर के पास फिट किया है, इससे लीवर के नीचे करते ही इंजन घूमने लगता है और साइकिल भी बिना पैडल के चलने लगती है। इसके साथ ही ई- साइकिल में सोलर चार्जेबल हेड लाइट लगाई है, इसमें प्रकाश के साथ-साथ मोबाइल चार्ज भी किया जा सकता है।

ADS

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
raipur school boys invented two in one e cycle

-Tags:#E cycle#School Boys#Raipur#India

ADS

ADS

मुख्य खबरें

ADS

ADS

ADS

ADS

Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo