Breaking News
Top

अब गाड़ियों का इंश्योरेंस कराना हुआ मंहगा, ये हैं नई दरें

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Nov 3 2017 4:17AM IST
अब गाड़ियों का इंश्योरेंस कराना हुआ मंहगा, ये हैं नई दरें

दोपहिया वाहन के कमीशन में बढ़ोतेरी के मांगों को देखते हुए आईआरडीए ने इंश्योरेंस एजेंट्स के कमीशन बढोतरी की मांग को मंजूरी दे दी है। जिसकी वजह से दुपहिया वाहन का इंश्योरेंस कराना अब मंहगा हो गया है।

2.5 प्रतिशत तक बढ़ गया है कमीशन

दुपहिया वाहन के इंश्योरेंस के कमीशन की दर कम होने की वजह से, इंश्योरेंस एजेंट्स दुपहिया वाहन के इंश्योरेंस करने में रूचि नहीं दिखाते थे। जबकि हर वाहन का इंश्योरेंस करवाना अनिवार्य है।

दोपहिया वाहन पर एजेंट्स को पहले 15 प्रतिशत का कमीशन मिलता था जिसे बढ़ाकर अब 17.5 प्रतिशत कर दिया गया है। भारतीय बीमा नियामक एवं विकास प्राधिकरण (आईआरडीए) के इस फैसले से मोटर बीमा के एजेंट्स को अब 2.5 प्रतिशत अतिरिक्त कमीशन मिलेगा।

यह भी पढ़ें- टोक्यो मोटर शो 2017: इस स्पोर्ट्स बाइक ने मचाई है धूम

चार पहिये वाहन के इंश्योरेंश कराने पर मिली है राहत

हालांकि कार और एसयूवी के कॉम्प्रेहैंसिव बीमा पॉलिसी पर मिलने वाला अधिकतम कमीशन 15 प्रतिशत के स्तर पर ही बरकरार रहेगा। साथ ही नियामक ने गैर जीवन बीमा पॉलिसियों का अधिकतम कमीशन को भी 10 प्रतिशत से बढ़ाकर 15 प्रतिशत कर दिया है।

दो तरह के होते हैं गाड़ियों के इंश्योरेंस

आईआरडीए ने बीमा कंपनियों को नए कमीशन दिशा-निर्देशों के मुताबिक मोटर बीमा के प्रीमियम में पांच फीसद की कमी या फिर बढ़ोतरी करने की अनुमति दे दी है। देश में दो तरह के इंश्योंरेंस कवरेज होते हैं, पहला कम्प्रीहेंसिव और दूसरा थर्ड पार्टी।

यह भी पढ़ें-  क्रेटा  को टक्कर देने लॉन्च हो रही है रेनो की ये नई कार

कम्प्रीहेंसिव के तहत गाड़ी के पूरे डैमेज और चोरी को कवर किया जाता है जबकि दूसरे के तहत सिर्फ थर्ड पार्टी को कवर किया जाता है। थर्ड पार्टी की स्थिति में पहले एजेंट का कमीशन तय नहीं था। कंपनियां मौटे तौर पर उन्हें 100 रुपये से 150 रुपए दिया करती थीं। लेकिन अब उन्हें सालाना प्रीमियम का 2.5 फीसद कमीशन के रूप में मिलेगा।

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo