Breaking News
Top

डीजल इंजन बन सकती है इतिहास, रेलवे ने लिया है ये बड़ा फैसला

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Oct 28 2017 4:54PM IST
डीजल इंजन बन सकती है इतिहास, रेलवे ने लिया है ये बड़ा फैसला

जब भी हम भारतीय रेल की जिक्र करते हैं तो हमारे आंखो के सामने धुंआ उड़ाती हुई इंजन की तस्वीर नजर आती है। मगर धुंए वाली इंजन हमारे लिए इतिहास बनने जा रही है। भारतीय रेल, 2021 तक अपने सभी डीजल इंजन का परिचालन बंद कर सकती है।

पिछले साल ही नेशनल ग्रीन ट्रिब्युनल ने दिल्ली आने वाली सभी रेलगाड़ियों में बिजली से चलने वाले इंजन लगाने का आदेश दिया था। रेलवे ने इस आदेश का पालन करते हुए लगभग सभी मार्गों का विद्युतीकरण करने का लक्ष्य बनाया है।

यह भी पढ़ें- हीरो ने 50 हजार से भी कम कीमत में लॉन्च की, अब तक की सबसे दमदार मोटरसाइकिल

डीजल से चलने वाले इंजन से प्रदुषण तो होता ही है, साथ में इस इंजन से रेलगाड़ी चलाने पर रेलवे को ज्यादा खर्च करना पड़ता है।

हर साल बचेंगे 10,500 करोड़ रुपये

रेलवे के मुताबिक हर साल डीजल इंजन के न होने से लगभग 10,500 करोड़ रुपये की बचत होगी। रेलवे ने इसके लिए 35 हजार करोड़ का बजट बनाया है। रेलवे के पास अभी भी 66 हजार किलोमीटर का नेटवर्क है, जिस पर डीजल इंजन से ट्रेनें चलाई जाती है।

कम हो जाएगी कॉस्ट

रेलवे को विद्युतीकरण करने के लिए एक किलोमीटर का ट्रैक तैयार करने में करीब 1 करोड़ रुपये से अधिक की लागत आएगी। अभी आधे से ज्यादा रेलवे ट्रैक का विद्युतीकरण किया जा चुका है।

जिन रूटों पर विद्युतीकरण नहीं हुआ है वहां रेलवे को हर साल डीजल पर 26,500 करोड़ रुपये खर्च आता है। वहीं विद्युतीकरण करने के बाद 16 हजार करोड़ रुपये का खर्चा आएगा।

यह भी पढ़ें- आधार को मोबाइल से लिंक करने पर सरकार का बड़ा फैसला

बिजलीघरों से सीधी लेगी बिजली

रेलवे अपने ट्रेनों के लिए बिजली पॉवर डिस्ट्रीब्यूशन कंपनियों से खरीदती है। रेलवे अब बिजली, पॉवरहाउस से खरीदने का विचार कर रही है। अगर रेलवे ऐसा करती है तो उसे सालाना 2,500 करोड़ की बचत होगी।

अभी रेलवे हर साल 15.6 बिलियन यूनिट का उपयोग करता है, जिसका खर्चा करीब 9,500 रुपये बैठता है। इसके अलावा रेलवे को डीजल पर 17 हजार करोड़ का खर्च अलग से करना पड़ता है।

यह भी पढ़ें- मात्र 2,000 में ले आइये होंडा का यह नया स्कूटर, आज से शुरू हो गई है बुकिंग

अभी है 4,400 बिजली से चलने वाले इंजन

रेलवे के पास वर्तमान में 4,400 बिजली से चलने वाले इंजन है। अगर सभी मार्गों का विद्युतीकरण हो जाता है तो रेलवे को 600 इंजन की जरूरत और होगी। रेलवे इसके लिए प्रतिवर्ष 250 इंजन का निर्माण करेगी।

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
indian railways to shut down diesel loco focus on electric loco

-Tags:#Indian Railways#IRCTC#Diesel locomotives#Electric Locomotives#India
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo