Top

क्यों मनाई जाती है बकरीद

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Sep 2 2017 12:00PM IST
क्यों मनाई जाती है बकरीद

बकरीद क्यों मनाई जाती है, इस्लाम की पवित्र पुस्तक कुरआन में ऐसा वर्णन मिलता है कि एक दिन अल्लाह ने हज़रत इब्राहिम से सपने में उनकी सबसे प्रिय चीज की कुर्बानी मांगी। हज़रत इब्राहिम को सबसे प्रिय अपना बेटा लगता था। उन्होंने अपने बेटे की कुर्बानी देने का निर्णय किया। लेकिन जैसे ही हज़रत इब्राहिम ने अपने बेटे की बलि लेने के लिए उसकी गर्दन पर वार किया। 

इसे भी पढ़ें: कश्मीर: ईद की नमाज के बाद पत्थरबाजों और सुरक्षाबलों में भिड़ंत, 10 लोग घायल

अल्लाह चाकू की वार से हज़रत इब्राहिम के पुत्र को बचाकर एक बकरे की कुर्बानी दिलवा दी। इसी कारण बकरीद  मनाई जाती है।

ईद-उल-ज़ुहा यानि बकरीद हज़रत इब्राहिम की कुर्बानी की याद में मनाया जाता है। बकरीद के दिन हज़रत इब्राहिम अल्लाह के हुक्म पर अल्लाह के प्रति अपनी वफादारी दिखाने के लिए अपने बेटे हज़रत इस्माइल को कुर्बान कराने के लिए राजी हुए थे। इसी कारण बकरीद  मनाई जाती है।

बकरीद पर्व का मुख्य उद्देश्य लोगों में जनसेवा और अल्लाह की सेवा के भाव को जगाना है। ईद-उल-ज़ुहा (बकरीद) का यह पर्व इस्लाम के पांचवें सिद्धान्त हज को भी मान्यता देता है।

इसे भी पढ़ें: ईद-उल-फितर का त्योहार आज, जामा मस्जिद में डेढ़ लाख लोगों ने पढ़ी नमाज

ईद-उल-ज़ुहा (बकरीद) के दिन मुसलमान किसी जानवर जैसे बकरा, भेड़, ऊंट आदि की कुर्बानी देते हैं। बकरीद के दिन कुर्बानी के गोश्त को तीन हिस्सों में बांटा जाता है। एक खुद के लिए, दूसरा सगे-संबंधियों के लिए और तीसरा गरीबों के लिए। 

बकरीद के दिन सभी लोग साफ-पाक होकर नए कपड़े पहनकर नमाज पढ़ते हैं। मर्दों को मस्जिद व ईदगाह और औरतों को घरों में ही पढ़ने का हुक्म है। नमाज पढ़कर आने के बाद ही कुर्बानी की प्रक्रिया शुरू की जा सकती है। ईद उल फितर की तरह ईद-उल-ज़ुहा में भी ज़कात देना अनिवार्य होता है ताकि खुशी के इस मौके पर कोई गरीब महरूम ना रह जाए।

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo