Top

वास्तु शास्त्र: 'किचन' और 'बेडरूम' में भूलकर भी न करें इस रंग का प्रयोग, छिन जाएगी हर खुशियां

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Nov 24 2017 12:25PM IST
वास्तु शास्त्र: 'किचन' और 'बेडरूम' में भूलकर भी न करें इस रंग का प्रयोग, छिन जाएगी हर खुशियां

वास्तु शास्त्र में रंगों का अद्भुत महत्व माना गया है। वास्तु शास्त्र के जानकारों का कहना है कि रंग व्यक्ति के व्यव्हार और मूड पर बेहद प्रभाव डालते हैं। इसलिए वास्तु शास्त्र में कपड़ों से लेकर घर की दीवारें, फर्श, फर्नीचर और बेडशीट तक पर प्रयोग किए जाने वाले रंगों का हमारे जीवन पर खासा प्रभाव पड़ता है। वास्तु शास्त्र के अनुसार हम आपको बता रहे हैं कि किस रंग का प्रयोग घर के बेदरूम और किचन में करना परिवार में अशांति का कारण बनता है।

इसे भी पढ़ें: चंपा षष्ठी: व्रत करने धुल जाते हैं पूर्व जन्म के पाप ऐसे, ये है महत्व

लाल रंग 

लाल रंग को उर्जा का प्रतीक माना जाता है। इस रंग में उर्जा को अवशोषित करने की क्षमता सबसे अधिक होती है। इसलिए लाल रंग उत्साहवर्धन करने वाला माना जाता है। लेकिन उर्जात्मक होने के कारण इस रंग का अत्यधिक प्रयोग लोगों को हिंसात्मक बना सकता है। इसलिए इस रंग का प्रयोग घर के दीवार और फर्श पर नहीं करना चाहिए। साथ ही घर के फर्श और दीवारों में लाल रंग का प्रयोग नहीं करना चाहिए। 

इसे भी पढ़ें: सामुद्रिक शास्त्र: ऐसे 'वक्ष स्थल' वाली स्त्रियों में होते हैं ये विलक्षण गुण

पड़ता है ये प्रभाव 

वास्तु के अनुसार घर के मुख्य द्वार पर गहरे लाल रंग का इस्तेमाल करने से बचना चहिए। इससे परिवार के सदस्यों के बीच आपसी ईर्ष्या, मनमुटाव, द्वेष, क्रोध की स्थितियां उत्पन्न होतीं हैं। जो आगे चलकर परिवार के सदस्यों पर नकारात्मक प्रभाव डालता है। इतना ही नहीं इस रंग का किचन या बेडरूम में प्रयोग करना दाम्पत्य जीवन में भी दरार लाता है।

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
vastu shastra men laal rang red colour in vastu

-Tags:#Vastu Shastra#Red colour in vastu#Vastu kitchen tips#Vastu advice
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo